ब्लॉगसेतु

Sanjay  Grover
307
मालिक़ के जैसा होने में उसको आराम है अब पता चला ग़ुलाम क्यों ग़ुलाम हैमुर्दों के जैसी ज़िंदगी चुनते हैं बार-बारफिर पूछते हैं क्यों यहां जीना हराम हैऊंचाईओं की चाह को मरना ही एक राहअब मर ही गए हो तो देखो कितना नाम है10-02-2016जब काम नहीं था तो मैं बारोज़गार थाफिर छो...
Sanjay  Grover
702
लघुव्यंग्यकथासड़क-किनारे एक दबंग-सा दिखता आदमी एक कमज़ोर-से लगते आदमी को सरे-आम पीट रहा था। पिटता हुआ आदमी ‘बचाओ-बचाओ’ चिल्ला रहा था। लोग बेपरवाह अपने रुटीन के काम करते गुज़र रहे थे। ‘हाय! हमें बचाने कोई नहीं आता, कोई हमारा साथ नहीं देता.....’, वह कराह रहा था...ए...