ब्लॉगसेतु

Roli Dixit
163
मरना ही चाहते हो न तुमतो आराम से मरो और पूरा मर&#...
Roli Dixit
163
Roli Dixit
163
GOOGLE IMAGEये मेरे आखिरी शब्दजो कल डायरी बन जाएंगे;एक भयंकर अंतर्द्वंद्व,उथल-पुथल का जीता-जागता उदाहरण हैंमैं, मेरे मैं कोमिट्टी में मिलाने जा रही हूँ,माँ, हो सके तो माफ कर देना मुझेइस देह पर बिना हक़ काहक़ जता रहीं हूँ,पापा, तुम्हारा दिया हुआ आत्मसम्मानन बचा पाई,जो...
Kajal Kumar
18
Kajal Kumar
18
अविनाश वाचस्पति
271
Sanjay  Grover
406
एक समय की बात है एक अजीब-सी जगह पर, बलात्कार करनेवाले, बलात्कृत होनेवाले, बलात्कार देखनेवाले, बलात्कार का इरादा रखनेवाले सब मिल-जुलकर रहते थे। (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); बीच-बीच में वे न जाने किसका विरोध और शिक़ायत करते रहते थे।शायद क...
Ravi Parwani
474
photo credit : universityex.comHello friends,समय की कमी की वजह से बहुत दिन के बाद यह आर्टिकल लिख पाया हूँ | इस आर्टिकल का विषय है  “ आत्महत्या “ . आज का मेरा आर्टिकल इसी विषय पर है की लोग आत्महत्या क्यूँ करते है ? ऐसा तो क्या हो गया उनकी जिंदगी में जो किस...
 पोस्ट लेवल : lifestyle आत्महत्या Suicide problems
MediaLink Ravinder
814
पीएयू के सुसाईड प्रिवेंशन आयोजन ने सिखाये ज़िंदगी के असली गुर लुधियाना: 16 सितंबर 2017: (कार्तिका सिंह)::मन की दुनिया अजीब दुनिया है;रंग कितने ही यह बदलती है। यह पंक्तियाँ इन दिनों की अख़बार में छपी खबरें देख कर पहले मन में उठीं और फिर&n...
 पोस्ट लेवल : PAU Ludhiana Suicide Prevention Contest Poetry
Yash Rawat
616
मुझे अक्‍सर एक सपना आता है कि मैं ट्रेकिंग के लिए पहाड़ों पर गया हूं जोकि मेरा शौक है और साल में लगभग 1-2 बार जाता भी रहता हूं, मैं बहुत लंबी और खड़ी चढ़ाई को पार करने के बाद चोटी तक पहुंचता हूं मेरे साथ कई लोग होते हैं लेकिन मैं किसी को नहीं पहचानता हूं, चोटी से वापि...