ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
23
हिंदी, प्रेम उपन्यास — बेदावा: एक प्रेम कथा — तरुण भटनागर उपन्यास अंश (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); ‘ अच्छा छोड़ो...कुछ और बताओ...कहाँ रहे इतने दिनों... क्या किया...?’तरुण भटनागर‘ नहीं बता सकता...।’‘ क्यों...?’‘ आज तुम्हें सुनना है...।...
Bharat Tiwari
23
आजकल की कहानियों के साथ किये जाने वाले प्रयोगों — जो अधिकांशतः असफल होते हैं — ने कहानी-कला का नुक्सान अवश्य किया होगा. लचर होती जाती कहानियाँ और उनसे लदेफदे अखबार और अनजान पत्रिकाएं  हिंदी साहित्य की धता उतारने में व्यस्त हैं. इनसब के बीच अच्छी कहानियाँ...
Bharat Tiwari
23
मार्मिक कहानियां: तरुण भटनागर — "तेरह नंबर वाली फायर ब्रिगेड"उसे यह भी नहीं पता था कि स्टीव को पल भर के लिए शराब पीने की इच्छा हुई थी। पब के सामने खड़े-खड़े उसने अपनी पॉकेट से पैसे निकालकर गिने थे। उसे काउण्टर वाले शख़्स पर गुस्सा आया जिसने उससे फ़ोन करने के चार यूरो...