ब्लॉगसेतु

मनीष कुमार
0
राँची से अयोध्या पहाड़ तक की यात्रा तो आपने की थी मेरे साथ पिछले हफ्ते और ये भी जाना था कि किस तरह हम ऐसे ठिकाने में फँस गए थे जहाँ आती जाती बिजली के बीच जेनेरेटर की व्यवस्था भी नहीं थी। समझ में मुझे ये नहीं आ रहा था कि जहाँ दो दो बाँध का निर्माण बिजली उत्पादन के लि...
मनीष कुमार
0
अयोध्या नाम लेने से हम सबके मन में सीधे सीधे राम जन्म भूमि का ख्याल आता है। सच ये है कि राम तो पूरे भारतीय जनमानस के हृदय में बसे हैं। उनकी भक्ति का प्रभाव भारत ही नहीं आस पास के पड़ोसी देशों तक जा पहुँचा। यही वज़ह है कि थाइलैंड में राम की याद में राजधानी बैंकाक से...
मनीष कुमार
0
यूँ तो पलाश का फैलाव भारत के हर कोने में है पर पूर्वी भारत में इनके पेड़ों का घनत्व अपेक्षाकृत ज्यादा है और इसका प्रमाण तब मिलता है जब आप रोड या रेल मार्ग से मार्च और अप्रैल के महीने में इन इलाकों से गुजरते हैं। झारखंड और उत्तरप्रदेश का तो ये राजकीय पुष्प भी है। टैग...
Ritesh Gupta
0
Guest Post Written by Aparna Sisodiya (अपर्णा सिसोदिया )भारतकी आकृति, प्रकृति और संस्कृति अद्भुत, अनुपम और अनुकरणीय है।जम्मू और कश्मीर जिसके सर का ताज है, दिल्ली जिसका दिल है और हिन्द महासागर जिसके पग को पखारता है। भाषा, धर्म, कला, नृत्य, संगीत, खान-पान, वेष-भूषा...
 पोस्ट लेवल : West Bengal Gujrat Madhya Pradesh Jammu & Kashmir Kerala
मनीष कुमार
0
देश के पूर्व और उत्तर पूर्व में अगर आप गए हों तो आपने देखा होगा कि इन इलाकों में कई जनजातियाँ निवास करती हैं। इनकी अपनी एक जीवन शैली है। एक अलग संस्कृति है जिसके बारे में देश के बाकी हिस्सों के लोग ज्यादा नहीं जानते। देश के विभिन्न भागों की सांस्कृतिक धरोहरों को आम...
Neeraj Jaat
0
मज़ा आ गया। किताब का नाम देखने से ऐसा लग रहा है, जैसे कश्मीर का ज़िक्र हो। आप कवर पेज पलटोगे, लिखा मिलेगा - यात्रा-वृत्तांत। लेकिन अभी तक मुझे यही लग रहा था कि कश्मीर का यात्रा-वृत्तांत ही होगा। लेकिन जैसे ही ‘पुस्तक के बारे में’ पढ़ा, तो मज़ा आ गया। इसमें तो झारखंड़ के...
मनीष कुमार
0
रवींद्रनाथ टैगोर के रचे संगीत और साहित्य से थोड़ा बहुत परिचय तो पहले से था पर उनकी कर्मभूमि  शांतिनिकेतन को देखने की इच्छा कई दिनों से थी। कार्यालय के काम से दुर्गापुर तो कई बार जाता रहा पर कभी शांतिनिकेतन जाने का सुखद संयोग नहीं बन पाया। इसलिए दशहरे की छुट्टिय...
मनीष कुमार
0
दुर्गापुर मेरे लिए कोई नया शहर नहीं है। पिछले दो दशकों में यहाँ दर्जनों बार काम के सिलसिले में आना जाना हुआ है। शहर का केंद्र यहाँ का सिटी सेंटर है जिसके आस पास इस शहर के सबसे बेहतरीन होटल हैं और यही जगह हमारे रहने का अड्डा हुआ करती है। शहर के कल कारखानों के साथ जब...
मनीष कुमार
0
बिष्णुपुर को सिर्फ मंदिरों का शहर ना समझ लीजिएगा। मंदिरों के आलावा बिष्णुपुर कला और संस्कृति के तीन अन्य पहलुओं के लिए भी चर्चित रहा है। पहले बात यहाँ की धरती पर पोषित पल्लवित हुए संगीत की। बिष्णुपुर की धरती पर कदम रख कर अगर आपने यहाँ के मशहूर बिष्णुपुर घराने के गा...
Ritesh Gupta
0
 Guest Post Written by Kishan Bahety                                                                "बुद्धम् शरणम् गच्छामि" ये मन्त्र एशिया के उन सभी देशो में आपको सुनने मिल जायेगा, जिसे दुनिया के उन्नत देशो में से एक माना जाता है, पर जिस देश से बौद्ध म...
 पोस्ट लेवल : West Bengal Japani Temple Buddha Temple Kolkata