ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
0
योगिता यादव की लम्बी कहानी 'नदियों बिछड़े नीर' उनकी महारत — दिल्ली की बस्तियों में होने वाली घटनाओं, वहाँ के जीवन की बारीकियों पर मजबूत पकड़ — से उपजी प्रेम कहानी। ... भरत तिवारी/शब्दांकन संपादक"घर में लड़की और पड़ोस में लड़का जब जवान हो रहा हो तो   &...
Bharat Tiwari
0
योगिता यादव की लेखनी को मैं सदैव कहानी की विषयवस्तु को बिलकुल ताज़ा लिखने वाली मानता हूँ ,'नई देह में नए देस में' उन्होंने मेरी यह धारणा और मजबूत की हैं, उन्हें बधाई देता हूँ.भरत एस तिवारी "दो औरतें जब आपस में मिलना चाहती हों तो उन्‍हें मिलने देना चाहिए। किसी को भी...
Bharat Tiwari
0
फ़ोटो: भरत एस तिवारीकहानीकृश्न चन्दरजी का कालजयी व्यंग्य 'एक गधे की आत्मकथा' अभी इसलिए याद आ रहा है कि हिंदी को अच्छी-अच्छी कहानियों से समृद बना रही युवा कहानीकार योगिता यादव की कहानी 'ये गई रात के किस्‍से हैं ' पढ़ने के बाद यह अहसास अभी तक बना हुआ है कि कहानी 'एक पत...
Bharat Tiwari
0
योगिता यादवबदलते समय पर कहानी — बन्‍नो बिगड़ गई — योगिता यादवबिगड़ना और सुधरना का माने वक़्त के साथ बदलता जाता है। कहानी कहे जाने का अंदाज़ भी इस वक़्त के बदलने के साथ बदलना चाहिए। ‘बन्‍नो बिगड़ गई’ कहानी में इन बदलावों को योगिता यादव ने जिस महकते चुहल के साथ अपनाया है...
Bharat Tiwari
0
प्रदूषण वाली स्टोरी हर जगह कई बार छप चुकी है। कई संस्थानों से इस पर छोटे—बड़े धुरंधरों ने शोध के लिए रकम भी ऐंठी है। पर हुआ कुछ नहीं। प्रदूषण का मसला अब सबके लिए बेकार है। शहर सो गया था— योगिता यादव (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); एक सन...
Bharat Tiwari
0
गलत पते की चिट्ठियांयोगिता यादवस्त्रीविमर्श को एक और सिपाही मिल रहा है, योगिता यादव की ख़ूबसूरत शिल्प में रची बढ़िया कहानी 'गलत पते की चिट्ठियां' इस दुआ के साथ कि इस विमर्श में आपहम सब शामिल हों ... भरत तिवारी (adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({});...
Bharat Tiwari
0
धीरे-धीरे रट्टू तोते की तरह मैं अंग्रेजी टेक्स्ट बुक के लैसन रटती रही। पर इतना आसान भी नहीं था सुसरी अंग्रेजी की रीढ़ तोड़ना। यह व्यवस्था की रीढ़ में दाखिल हो चुकी थी। योगिता यादव की 'हंस कथा सम्मान 2016' सम्मानित कहानी‘हंस कथा सम्मान 2016’ की जूरी से अभी कुछ घ...
prabhat ranjan
0
योगिता यादव हिंदी की जानी पहचानी युवा लेखिका हैं. अपनी कहानियों के लिए उनको युवा ज्ञानपीठ पुरस्कार भी मिल चुका है. आज उनकी एक कहानी- मॉडरेटर ===============================================उस वीराने में एक पीड़ का पेड़ था। हर शाम वहां चिडिय़ों का झुंड इकट्ठा होत...
 पोस्ट लेवल : yogita yadav योगिता यादव
prabhat ranjan
0
लोहड़ी को आमतौर पर पंजाबी संस्कृति का त्यौहार माना जाता है. लेकिन इस लेख में लेखिका योगिता यादव ने यह बताया है कि किस तरह लोहड़ी जम्मू की संस्कृति का भी अहम् हिस्सा रहा है. तो इस बार जम्मू से हैप्पी लोहड़ी- मॉडरेटर ========== एक बार रेवाड़ी के मेरे एक उम्रदर...
 पोस्ट लेवल : yogita yadav