ब्लॉगसेतु

S.M. MAsoom
72
google.load("elements", "1", {packages: "transliteration"}); मुहर्रमआते ही जगह जगह अज़ादारी के जुलुस इमाम हुसैन (अ.स ) और कर्बला के शहीदों की शहादत को याद करते हुए निकलने लगते हैं | इन जुलूसों में कर्बला में हुयी शहादत को याद करने के लिए प्रतीकात्...
S.M. MAsoom
72
आज दो मुहर्रम को जौनपुर में सुबह से ही पंजे शरीफ जाने के लिए लोग सवारियां तलाशने लगते हैं मुहल्लों से जुलुस अलम का लिए अंजुमन वाले भी चल पड़ते हैं पंजे शरीफ की तरफ जहां पे आज 14 मासूमीन (अ.स) को खिचड़ी नज़र की जाती है | शाम तक वहाँ से लोग वापस लौटने लगते हैं और शह...
S.M. MAsoom
72
शार्की बादशाहों ने जौनपुर में बहुत से इमामबाड़े ,रौज़े बनवाये जिसे देख के ऐसा लगता है की वो जौनपुर को बग़दाद की शक्ल देना चाहते थे और बहुत हद तक इसमें कामयाब भी थे | लेकिन इब्राहीम लोधी ने इसे तोड़ दाल और बहुत बर्बाद किया | फिर भी बहुत से रौज़े और इमामबाड़े आज भी बचे हुए...