ब्लॉगसेतु

Devendra Gehlod
641
आज पता नहीं क्यों मुझे लगा की इस ब्लॉग पर शायरी के अलावा कुछ और भी लिखू सो आपके एक साथ मै एक घटना बात रहा हू कुछ समय पहले मै और मेरे दोस्त चाय पीने चाय वाले के यहाँ गए चुकी वो एक अलग कमरा लेकर रहता है सो चाय पीने  बाहर जाना ही पड़ता है और वैसे भी हम घूमते घूमत...
 पोस्ट लेवल : articles-blog Devendra-dev diary