ब्लॉगसेतु

अमितेश कुमार
179
रंगमंच वर्तमान में घटित होने वाली कला हैऔर इस कारण यह वर्तमान में हस्तक्षेप भी करता है अपनी जीवंतता से. इससे अपेक्षा भी की जाती है कि यह अपने समय के सवालों को संबोधित करे और उस पर बहस करे. इसे जोर देकर कहना चाहिए कि रंगकर्म ऐसी कला है जो अपने समय की सत्ता से सच कहत...
अमितेश कुमार
179
बीते नौ दिसंबर को जयपुर के रविंद्र मंच के भरे हुए  प्रेक्षागृह में दर्शक सांस रोक ‘नटसम्राट’ का मंचन देख रहे थे. जयंत देशमुख निर्देशित वी. वी. शिवाड़कर के इस प्रसिद्ध मराठी नाटक में नटसम्राट की भूमिका आलोक चटर्जी निभा रहे थे. इसी समय बिहार...
अमितेश कुमार
179
गुंजन की पीठ के निशान, इनसेट में सम्मानित करते मुख्यमंत्रीऐसा क्या बिहार में ही होना था और वह भी बेगूसराय में! राज्य सरकार, केंद्र सरकार द्वारा सम्मानित और देश के उभरते हुए रंग निर्देशक प्रवीण कुमार गुंजन को बिहार पुलिस के एक निर्मम दारोगा और उसके साथियों ने इसलिये...