ब्लॉगसेतु

S.M. MAsoom
39
बहना मेरी दूर पड़ा मै दिल के तू है पास अभी बोल देगी तू “भैया” सदा लगी है आस ——————- मुन्नी -गुडिया प्यारी मेरी तू है मेरा खिलौना मै मुन्ना-पप्पू-बबलू हूँ बिन तेरे मेरा क्या होना ! ————————— तू ही मेरी सखी सहेली&nbsp...
S.M. MAsoom
39
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); तुम तो जिगरी यार हो ==================दोस्त बनकर आये हो तो मित्रवत तुम दिल रहो गर कभी मायूस हूँ मैंहाल तो पूछा करो ..?-------------------------------पथ भटक जाऊं अगर मैं हो अहम या कुछ गुरुर डांटकर तुम राह लाना (मि...
 पोस्ट लेवल : dost bhramar5 yaar mitr
347
तुम तो जिगरी यार हो ==================दोस्त बनकर आये हो तो मित्रवत तुम दिल रहो गर कभी मायूस हूँ मैंहाल तो पूछा करो ..?-------------------------------पथ भटक जाऊं अगर मैं हो अहम या कुछ गुरुर डांटकर तुम राह लाना (मित्र है क्या ........?)याद रखना तुम जरूर--------------...
 पोस्ट लेवल : mitrata dost bhramar5 yaar
347
आओ माँ मै पुनः चिढाऊं==========================मन कहता मै पुनः शिशु बनमाँ के आँचल खेलूँकल्पवृक्ष सम माँ ममता संगगोदी खेले प्रेम का सागर पी लूँ======================मुझे निहारे मुझे दुलारेतुतला गाये शिशु बन जाएहो आनंदित हर सुख पायेमाँ को मेरी ‘आँच ‘ न आये—————————-म...
 पोस्ट लेवल : prem maa mamta bhramar5 janani
347
( photo with thanks from google/net)प्रिय मित्रों नारियों के प्रति दिन प्रतिदिन बढ़ता अत्याचार मन को बहुत बोझिल करता है जरुरत है बहुत सख्त और सजग होने की , बच्चों में संस्कार भरना बहुत जरुरी हैं उन्हें अनुशासन से कदापि वंचित नहीं करना है बेटा हो या बेटी उन के आचार व...
 पोस्ट लेवल : anyay samaj dard bhramar5 naari
347
'आम' आदमी बन जाऊं ----------------------मन खौले 'शक्ति' की खातिर 'आम' आदमी बन जाऊं भीड़ हमारे साथ चले तो रुतबा मै भी कुछ पाऊँ अगर 'सुरक्षा' चार लगे तो शायद 'थप्पड़' ना खाऊं अंकुर उभरा दबा -दबा मै टेढ़ा -मेढ़ा ऊपर आया ऊपर हवा स्वर्ग सी सुन्दरमान के सीढ़ी चढ़ आया 'सिर '&nb...
 पोस्ट लेवल : chunav samaj vote aam aadmi bhramar5 desh
347
आज  उड़त अबीर गुलाल    छोरी  छोरवन क  अजब धमाल है कान्हा की कारगुजारी। …=================मिटटी लेप किये कोई कजरा लगायेबनरे लाल मुख धारी कोई लंगूर आये कुर्ता टोपी रंगे कोई कपड़ा भी फाड़े छोटी बड़ी पिचकारी रंग मारे बौछारें ढोल मजीरा कोई पीटे है त...
 पोस्ट लेवल : prem tyohar bhramar5 holi
347
‘लोरी’ गा के मुझे सुलाना------------------------------- माँ बूढी पथरायी आँखें जोह रही हैं बाटलाल हमारे कब आयेंगेधुंध पड़ी अब आँख                       ...
 पोस्ट लेवल : maa mamta dard bhramar5 desh videsh