ब्लॉगसेतु

Kajal Kumar
0
 
Kajal Kumar
0
 
MediaLink Ravinder
0
बैंक राष्ट्रीयकरण जैसे कदमों से ही आ सकेगी सच्ची आत्मनिर्भरता राष्ट्रीयकरण के बाद सुश्री इंदिरा गांधी को बधाई देते हुए कामरेड पी एस सुंदरसेन लुधियाना: 18 जुलाई 2020: (*एम एस भाटिया//कामरेड स्क्रीन)::ज़िंदगी यूं भी गुज़र सकती थी; जैसे आज के नेताओं...
दिनेशराय द्विवेदी
0
न्याय की स्थिति बहुत बुरी है। विशेष रुप से मजदूर वर्ग के लिए। आज मेरी कार्यसूची में दो मुकदमे अंतिम बहस के लिए थे। इन दोनों मामलों में प्रार्थी मजदूर हैं, जिनके मुकदमे 2008 से अदालत में लंबित हैं। हालाँकि श्रम न्यायालय में जाने के पहले इन मजदूरों ने श्रम विभाग में...
दिनेशराय द्विवेदी
0
सबसे बुरा तब लगता है जब जज की कुर्सी पर बैठा व्यक्ति अपने इजलास में किसी मजदूर से कहता है कि "फैक्ट्रियाँ तुम जैसे मजदूरों के कारण बन्द हुई हैं या हो रही हैं"।40 साल से अधिक की वकालत में अनगिन मौके आए जब यह बात जज की कुर्सी से मेरे कान में पड़ी। हर बार मेरे कानों स...
यूसुफ  किरमानी
0
यहां मैं आप लोगों के लिए एक विडियो पोस्ट कर रहा हूं जो पूरा देखने के बाद आपको सोचने को मजबूर कर देगा। हालांकि उसमें कही बातों को मैं अपनी बात के साथ आप लोगों के पढ़ने के लिए यहां दे रहा हूं। लेकिन हो सकता है कि अनुवाद में कुछ कमियां हों, इसलिए अगर आप पूरा विडियो दे...
farruq Abbas
0
फारूक अब्‍बास। अगर अाप कोई बिजनिस शुरू करना चाहते हो लेकिन आपके पास पर्याप्‍त फण्‍ड नही हैं तो आपको परेशान होनें की जरूरत नही हैं। ऐसे मेें कई लोग बैंक के लोन की जुगाड देखते हैैं लेकिन ज्‍यादातर मामलों मेें बैंक से लोन नही मिल पाता। अगर आप को भी कोई फाइनेन्सियल प्र...
 पोस्ट लेवल : Loan Sidbi Business Help Venture Capital Fund
Ravi Parwani
0
hello friends, इस पोस्ट में आपको भारत के सभी राज्य ,उन राज्य की राजधानी , राज्य के मुख्यमंत्री , सभी राज्य के राज्यपाल ,राज्य में बोली जाने वाली भाषाएँ , राज्य की ओफिसिअल वेबसाइट , हर राज्य के Tourism Place की वेबसाइट की जानकारी प्राप्त होगी। भारत दुनिया...
rambilas garg
0
                            मुल्ला नसीरूदीन की एक पुरानी कहानी है जो आज के राजनैतिक हालात पर एकदम फिट बैठती है। बात इस तरह है की मुल्ला नसीरूदीन अपने पडौस के राज्य में व्...
rambilas garg
0
किसी भी जानकारी के लिए आंकड़े महत्त्वपूर्ण होते हैं। लेकिन आंकड़े अलग अलग तरह के लोगों को उनकी अलग अलग व्याख्या का मौका भी उपलब्ध करवाते हैं। आंकड़ों की व्याख्या करने वाले का इरादा समझे बिना उस व्याख्या को सही तरह से समझना मुश्किल होता है। सरकारें आंकड़ों का मकड़जाल फैल...
 पोस्ट लेवल : GDP Per Capita Income Govt. Economy Welth distribution