ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
7
छंद कार्य शाला :राधिका छंद  लक्षण: २२ मात्रिक, द्विपदिक, समतुकांती छंद। विधान: यति १३-९, पदांत यगण १२२ , मगण २२२।  अभिनव प्रयोग गीत *क्यों मूल्य हुए निर्मूल्य, कौन बतलाए?क्यों अपने ही रह गए,न सगे; पराए।।  *तुलसी न उ...
sanjiv verma salil
7
छंद कार्य शाला :राधिका छंद १३-९ लक्षण: २२ मात्रिक, द्विपदिक, समतुकांती छंद.विधान: यति १३-९, पदांत यगण १२२ , मगण २२२ उदाहरण:१. जिसने हिंदी को छोड़, लिखी अंग्रेजी उसने अपनी ही आन, गर्त में भेजी निज भाषा-भूषा की न, चाह क्यों पाली?क्यों दुग्ध छो...