ब्लॉगसेतु

Sanjay  Grover
416
ग़ज़लcreation : Sanjay Groverसच जब अपनेआप से बातें करता हैझूठा जहां कहीं भी हो वो डरता हैदीवारो में कान तो रक्खे दासों केमालिक़ क्यों सच सुनके तिल-तिल मरता हैझूठे को सच बात सताती है दिन-रैनयूं वो हर इक बात का करता-धरता हैसच तो अपने दम पर भी जम जाता हैझूठा हरदम भीड़ इक...
विजय राजबली माथुर
127
shameful conspiracy   It is to bring on record, to put on the public domain, to inform the nation, the community at large, the shameful conspiracy that was hatched and carried out by the people in high position abusing their power, to benefit the bigg...
 पोस्ट लेवल : RIL Manmohan Singh shameful conspiracy natural gas