ब्लॉगसेतु

Sanjay  Grover
415
लघुकथावह हमारे घरों, दुकानों, दिलों और दिमाग़ों में छुपी बैठी थी और हम उसे जंतर-मंतर और रामलीला ग्राउंड में ढूंढ रहे थे।-संजय ग्रोवर05-02-2017
Sanjay  Grover
415
लघुकथा/व्यंग्य‘एक बात बताओ यार, गुरु और भगवान में कौन बड़ा है ?’‘तुम लोग हर वक़्त छोटा-बड़ा क्यों करते रहते हो.....!?’‘नहीं.....फिर भी .... बताओ तो ....?’‘गुरु बड़ा है कि छोटा यह बताने की ज़रुरत मैं नहीं समझता पर वह भगवान से ज़्यादा असली ज़रुर है क्यों कि वह वास्तविक ह...
Sanjay  Grover
415
लघुकथा/व्यंग्यमुझे उससे बात करनी थी।‘मेरे पास आज जो कुछ भी है सब ईश्वर का दिया है’, वह बोला।‘जो करता है ईश्वर ही करता है, उसकी मर्ज़ी के बिना पत्ता भी नहीं हिलता’, वह फिर बोला।‘आप मेरे पास बात करने आए, ईश्वर की बड़ी मेहरबानी है’, एक बार फिर उसने किसी ईश्वर के प्रति अ...