ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
घनाक्षरी सलिला: २संजीव, छंदघनाक्षरी से परिचय की पूर्व कड़ी में घनाक्षरी के लक्षणों तथा प्रकारों की चर्चा के साथ कुछ घनाक्षरियाँ भी संलग्न की गयी हैं। उन्हें पढ़कर उनके तथा निम्न भी रचना में रूचि हो  का प्रकार तथा कमियाँ बतायें, हो सके तो सुधार  सु...
sanjiv verma salil
6
घनाक्षरी: कल्पना मिश्रा बाजपेई सरस्वती . धवल वस्त्र धारणी सुभाषिनी माँ शारदे     ८-८  वीणा-पाणि वीणा कर धारती हैं प्रेम से      ८-७ मुख पे सुहास माँ का देखते ही बन रहा      ८-८ जग सारा विस्म...