ब्लॉगसेतु

rishabh shukla
662
नेता जी के आगमन पर शर्मा जी ने प्रसन्नता के भाव चेहरे पर लाते हुए कहा - "अद्भुत संयोग है की नेता जी स्वयं यहाँ पधारे|"चौबे जी पास में खड़े थे उन्होंने कहा - "यह सच में अद्भुत संयोग ही है की नेता जी चुनाव के बाद पधारे| शायद यह इतिहास में पहली बार हो रहा है|"यह चित्र...
rishabh shukla
662
इत्ती सी खुशीअचानक दरवाजे पर किसी ने दस्तक दी, रुची ने जाकर दरवाज़ा खोला तो स्तब्ध रह गयी| लेकिन यह क्या, ये तो वही व्यक्ती है जिनसे रुची कल मिली थी| इससे पहले की वो कुछ कह पाते की रुची बोल पड़ी - "मैने क्या किया साहब? मुझे आपका बटुआ रास्ते पर पड़ा मिला था| मै...
rishabh shukla
662
मेरे मन की शर्मा जी अभी-अभी रेलवे स्टेशन पर पहुँचे ही थे। शर्मा जी पेशे से मुंबई मे रेलवे मे ही स्टेशन मास्टर थे। गर्मीकी छुट्टी चल रही थी इसलिए वह शि...
rishabh shukla
662
Mere Man Keeएक दिन सहसा जब उमेश देर रात को घर आया तो मैंने देखा तो उसका पाँच साल का बेटा रोहन टी.वी. पर अपने मनपसंद कार्टून देख रहा था। उमेश ने अंदर जाकर उसकी पत्नी निशा ...
rishabh shukla
662
अनुपमा (सोनाली से)-:  ''सोनाली ! इधर आ । मै तुझे खिलौना दिखाती हूँ ।''सोनाली नीचे पोछा करती हुयी, एक पल के लिए पीछे पलटी, लेकिन पूर्ववत अपने काम में लग गयी, जैसे उसने कुछ सुना ही ना हो । शायद उसे पिछली घटना का स्मरण हो आया था, जब बड़ी मालकिन ने सिर्फ इसीलिए उस...
भावना  तिवारी
21
कसूरवार कौन ? #meremankee #rishabhshukla #book #poetry #hindi #onlinegathaबात तब की है जब मै सिर्फ १२ साल का था | मै अपने जन्म स्थान, उत्तरप्रदेश के भदोही जिले में अपने माता-पिता के साथ रहता था | वही भदोही जो अपने कालीन निर्यात के लिए विश्व विख्यात है | मेरा प...
rishabh shukla
662
कसूरवार कौन ? #meremankee #rishabhshukla #book #poetry #hindi #onlinegathaबात तब की है जब मै सिर्फ १२ साल का था | मै अपने जन्म स्थान, उत्तरप्रदेश के भदोही जिले में अपने माता-पिता के साथ रहता था | वही भदोही जो अपने कालीन निर्यात के लिए विश्व विख्यात है | मेरा प...
Rinki Raut
322
पंचायत के बीच में बैठी शारदा शर्म के मारे अपना सर नीचे किए बैठी हुई है उसने एक बार भी ये देखने की कोशिश नहीं की ये कौन लोग है जो उसके लिए गए निर्णय पर अपना पंचायती फैसला थोपने रहे  है  शारदा का पति और बच्चे उसे ऐसे देख रहे है, जैसे उसे आखरी बार देख रहे ह...
 पोस्ट लेवल : Hindi story
Ravi Parwani
476
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); source : starsunfoldedहेलो दोस्तों,इंटरनेट और आधुनिक तकनीक की दुनिया में हम एक जगह पर बैठे बैठे ही कई सारे काम कर सकते है । बहुत लोग इसका सही फायदा उठाते है तो कई लोग इसको सिर्फ timepass या किसीका मजाक उड़ाने क...
Ravi Parwani
476
कई साल पहले एक गाँव में एक बहुत ही बड़ा महात्मा आदमी रहा करता था । वह बहुत ही ज्ञानी और समझदार संत था । वह महात्मा हररोज शाम के समय अपना ज्ञान बाँटता था , मतलब की लोगों को सही गलत का पाठ पढ़ाता था । उसी वजह से उनकी ख्याति आसपास के सभी गांवों में हो गई थी ।(adsbygoogl...