ब्लॉगसेतु

Devendra Gehlod
0
..............................
 पोस्ट लेवल : ishq ghazal zafar-gorakhpuri
Devendra Gehlod
0
..............................
 पोस्ट लेवल : ishq special dil
Devendra Gehlod
0
..............................
 पोस्ट लेवल : ishq special dil
Kajal Kumar
0
 
Kajal Kumar
0
 
Mahesh Barmate
0
मैंने कुछ कहानियाँ गढ़ींकुछ किस्से कहेवो शामिल थे मुझमेंवो सुनते रहे।वो दूर बैठे थे महफ़िल मेंतमाशबीन बन करसीने से लगने को जी कियाअश्क़ बहते रहे।महफ़िल में हर शख्स ने तारीफ में उनकी वाहवाही लुटाईइशारों - इशारों में नज़रें फिरा कर हम भीबस उनके चेहरे को ही दे...
Tejas Poonia
0
किताब - रिस्क एट इश्क लेखिका - इरा टाकप्रकाशक - भारत पुस्तक भंडार विधा - प्रेमपरक उपन्यास छपा हुआ मूल्य - 295समीक्षक - तेजस पूनिया प्रेम को लेकर आदिकाल और मध्यकाल से ही लेखन चलता आ रहा है। इस संसार में प्रेम ही ऐसी चीज है जो कभी मिटाई नहीं जा सक...
Faiyaz Ahmad
0
"घमंड" के अंदर सबसे बुरी बात ये होती है किवो आपको "महसूस" नहीं होने देता किआप गलत है..---------------सच्चा प्यार ❤ Time , Love ,Respect  माँगता है,Flower, Chocolate, Gift नहीं..❗❗-----------------कुछ अच्छा होने पर जो इंसानसबसे पहले याद आता हैवो जिंदगी का सबस...
 पोस्ट लेवल : ishq
sanjiv verma salil
0
मुक्तक रंग इश्क के अनगिनत, जैसा चाहे देखलेखपाल न रख सके लेकिन उनका लेखजी एस टी भी लग नहीं सकता, पटको शीश -खींच न लछमन भी सकें, इस पर कोई रेख*http://divyanarmada.blogspot.in/
 पोस्ट लेवल : ishq muktak इश्क मुक्तक
sanjiv verma salil
0
मुक्तकमाँ तो माँ ही होती है सपने बच्चों में बोती है जाकर भी कब जा पाती है?खो जाती मगर न खोती है. *इश्क क्यों हुस्न से हुआ करता?इश्क को रश्क क्यों हुआ करता?इश्क की मुश्क जरूरी क्यों है?इश्क क्यों इश्क की दुआ करता?१४-५-२०१७ *मुक्तक सलिला :संजीव.हमसे छिपते भी नहीं, स...