ब्लॉगसेतु

Khushdeep Sehgal
61
एक दौर ऐसा था जब हर पोस्ट पर स्लॉग ओवर ज़रूर देता था...ब्लॉगिंग के सिलसिले में विराम आया लेकिन स्लॉग ओवर का मक्खन हर किसी को याद रहा...साथ ही उसकी पत्नी मक्खनी, बेटा गुल्ली और दोस्त ढक्कन भी...अब भी कई जगह से शिकायत मिलती रहती हैं कि मक्खन को कहां भेज दिया...&...
Khushdeep Sehgal
451
मक्खन का पठान दोस्त अपनी बीवी की कब्र पर पंखा चलाते हुए ज़ोर जोर से रो रहा था...मक्खन ने हमदर्दी जताई और पूछा....इतनी  मुहब्बत पठान साहब...क्या बात है...पठान... ओ गोचे...क्या बताती...उसने कहा था...मेरी कब्र की मिट्टी सूखने के बाद ही दूसरा निकाह करना...मक्खन......
 पोस्ट लेवल : Hindi Joke makkhan Weeping on grave humor
Khushdeep Sehgal
451
मक्खन अपनी कार के दो पहिये अचानक उतारने लग गया...मक्खनी ने कहा...ये क्या कर रहे हो? कार के दो पहिये क्यों उतार रहे हो?मक्खन...चुप कर ज़ाहिल औरत, रही ना पूरी अनपढ़ की अनपढ़...सामने देख बोर्ड पर क्या लिखा है...............................................................
 पोस्ट लेवल : makkhan car wheels humour
Khushdeep Sehgal
451
मक्खन से ज़्यादा बहादुर कौन हो सकता है...मक्खन पूरी तरह टुन होकर देर रात को घर लौटा.........................................................................................................................................................................................
 पोस्ट लेवल : drunken makkhan slog over dark humour
Khushdeep Sehgal
451
मक्खन और ढक्कन आठवीं में दूसरी बार फेल हो गए................................................................................................................................................................................................................................
 पोस्ट लेवल : hindi humour Suicide makkhan
Khushdeep Sehgal
451
मक्खन के पास सिगरेट तो थी, माचिस नहीं थी...बिजली भी नहीं आ रही थी...मक्खन माचिस ढूंढ कर थक गया लेकिन माचिस नहीं मिली...बेचारा क्या करता...मन  को  किसी तरह मना कर और.........................................................................................
 पोस्ट लेवल : candle makkhan humour