ब्लॉगसेतु

rishabh shukla
661
महाशिवरात्रीआज सुबह – सुबह दीनानाथ पाण्डेय जी, जो माधोपुर ग्राम के सबसे धार्मिक व्यक्ती है, हमेशा की तरह, हाथ में पूजा का सामान लेकर मंत्रोच्चार करते हुए तेजी से मंदिर की तरफ चले जा रहे थे| जैसे की उन्हें मंदिर और भगवान के आलावा कुछ भी...
rishabh shukla
661
नमस्कार, स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर| "मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी| आज हम लेकर आये है कवि आनंद शिवहरे जी की सुन्दर कविता "सो जा नन्हे-मुन्हे सो जा"| आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं औ...
rishabh shukla
661
नमस्कार,स्वागत है आप सभी का यूट्यूब चैनल "मेरे मन की" पर|"मेरे मन की" में हम आपके लिए लाये हैं कवितायेँ , ग़ज़लें, कहानियां और शायरी|आज हम लेकर आये है कवियत्री रेखा जी का भोजपुरी गीत "देशवा बचाके रख भईया"|आप अपनी रचनाओं का यहाँ प्रसारण करा सकते हैं और रचनाओं का आनं...
kuldeep thakur
92
शहरशहर ..... ही शहर है,फैला हुआ,जहाँ तलक जाती नजर है शहर ..... ही शहर है|फैली हुई कंक्रीट और का बड़ा अम्बार,वक्त की कमी से बिखरते रिश्ते,बढ़ती हुयी दूरी का कहर है,शहर ..... ही शहर है|पैरो से कुचला हुआ,है अपनापन,बस खुद से खुद के साथ,विराना सफर है,शहर .........
rishabh shukla
484
शहरशहर ..... ही शहर है,फैला हुआ,जहाँ तलक जाती नजर है शहर ..... ही शहर है|फैली हुई कंक्रीट और का बड़ा अम्बार,वक्त की कमी से बिखरते रिश्ते,बढ़ती हुयी दूरी का कहर है,शहर ..... ही शहर है|पैरो से कुचला हुआ,है अपनापन,बस खुद से खुद के साथ,विराना सफर है,शहर .........
rishabh shukla
661
नेता जी के आगमन पर शर्मा जी ने प्रसन्नता के भाव चेहरे पर लाते हुए कहा - "अद्भुत संयोग है की नेता जी स्वयं यहाँ पधारे|"चौबे जी पास में खड़े थे उन्होंने कहा - "यह सच में अद्भुत संयोग ही है की नेता जी चुनाव के बाद पधारे| शायद यह इतिहास में पहली बार हो रहा है|"यह चित्र...
rishabh shukla
484
शादी शुदा जिन्दगी क्या हुआ है मुझे,थोड़ा गुमशुम सा रहता हूँ,खुद से ही मै,बाते करता रहता हूँ|तेरे हर जुल्मो सितमको हसकर सहता,लेकिन कभी सपने में भी,किसी से नहीं कहता हूँ|ये तेरा प्यार ही है शायदजो एक पल के लिए भी तुझे भुला नहीं,सपने में भी,तुझे नहीं भूलता हूँ|इश्...
rishabh shukla
661
इत्ती सी खुशीअचानक दरवाजे पर किसी ने दस्तक दी, रुची ने जाकर दरवाज़ा खोला तो स्तब्ध रह गयी| लेकिन यह क्या, ये तो वही व्यक्ती है जिनसे रुची कल मिली थी| इससे पहले की वो कुछ कह पाते की रुची बोल पड़ी - "मैने क्या किया साहब? मुझे आपका बटुआ रास्ते पर पड़ा मिला था| मै...
rishabh shukla
661
मेरे मन की शर्मा जी अभी-अभी रेलवे स्टेशन पर पहुँचे ही थे। शर्मा जी पेशे से मुंबई मे रेलवे मे ही स्टेशन मास्टर थे। गर्मीकी छुट्टी चल रही थी इसलिए वह शि...
rishabh shukla
661
Mere Man Keeएक दिन सहसा जब उमेश देर रात को घर आया तो मैंने देखा तो उसका पाँच साल का बेटा रोहन टी.वी. पर अपने मनपसंद कार्टून देख रहा था। उमेश ने अंदर जाकर उसकी पत्नी निशा ...