ब्लॉगसेतु

Rahul singh
443
आखरी  साँस  जोधपुर  के  पास  शाहगढ़  बल्ज  है |  जहाँ  रेत  के  टीलों  के  अलावा  कुछ  नहीं  है |  इंसान  तो  छोड़िए , झाडि़यां  तक  नहीं | इस  रेगिस्तानी...
Rahul singh
443
कैसे  याद  करें ?किसी  विषय  को  कैसे  समझें, उससे  समबन्धित  प्रश्नो  को  कैसे  याद  करें , अपनी  याददाश्त  कैसे  तेज  बनाएं, देखी, सुनी  और  अनुभव की  गई  जानकारी...
Rahul singh
443
लगन और  मेहनत = सफलता जापान  के  एक  छोटे  से  शहर  में  रहने  वाले  एक  छोटे  से  लड़के  को  जूडो़  सीखने  का  बहुत  शौक  था ।  लेकिन बचपन  में...
Rahul singh
443
इस  उम्र  में  कई  युवा  कॉलेज  में  पढ़ाई  कर  रहे  होते  है। उसी  उम्र  में  भारत  के  कई  युवा  करोड़पति  और अरबपति  बन  रहे  हैं ।  यह  युवा...
Rahul singh
443
एक  जैसे  मुकाम   अगर  मेहनत  एक  जैसी  हो  तो  किस्मत  भी  एक  जैसा  व्यवहार  करती  है  और  इस  बात  की मिसाल बन  गए  हैं  कुरियन  बंधु। दो...
Rahul singh
443
बहुत पढ़ लिया  अब बकरी  चरा राजस्थान  के  श्रीगंगानगर  में  झोपड़ी  मेंपढ़कर  एक  नौजवान  ने  अच्छे  अंकों  से  परीक्षा  पास  की  है। दसवीं  कक्षा  में  78...
Rahul singh
443
      खोखले   बहाने  मुझे  उचित  शिक्षा  लेने  का  अवसर  नही  मिला... उचित  शिक्षा  का  अवसर  फोर्ड मोटर्स  के मालिक  हेनरी  फोर्ड  को  भी  नही मिला ।मै &n...
Rahul singh
443
उठो,  जागो  और  तब  तक  रुको  नही  जब  तक मंजिल  प्राप्त  न  हो  जाये ।  जो  सत्य  है, उसे साहस पूर्वक  निर्भीक  होकर  लोगों  से  कहो–उससे  किसी  को  ...
Rahul singh
443
एक  लड़की  ने  अपने  पिता  से  पूछा  मेरे  जन्मदिन पर  आप  मुझे  क्या  दोगे  पिता  ने  कहा  अभी  तो  छः महीने  है  और  अभी  बहुत  समय  है |कुछ &n...