ब्लॉगसेतु

Tejas Poonia
383
“दोस्त पाकिस्तान का”वो दिखता भी मुझ जैसा हैवो लिखता भी मुझ जैसा हैवो खाता भी मुझ ही जैसा हैउसका सारा काम लगभग मुझ जैसा ही हैबस फ़र्क इतना हैवो मुसलमान है औरमैं हिन्दूवो पाकिस्तानी हैमैं भारत का उसके मेरे देश मेंरहन-सहन, खान-पान रीत-रिवाज, तीज-त्यौहारस...
sanjiv verma salil
6
नवगीत:संजीव *वाजिब है वे करें शिकायत भेदभाव की आपसे*दर्जा सबसे अलग दे दियाचार-चार शादी कर लें.पा तालीम मजहबी खुद हीअपनी बर्बादी वर लें.अलस् सवेरे माइक गूँजेरब की नींद हराम करें-अपनी दुख्तर जिन्हें न देतेउनकी दुख्तर खुद ले लें.फ़र्ज़ भूल दफ़्तर से भागेंक...
Mithilesh Singh
247
भारतवर्ष की यदि कोई सबसे बड़ी त्रासदी रही है तो वह है दंगों का एक लम्बा इतिहास. पूरे वैश्विक पटल पर यह भारतवर्ष की छवि को धूमिल लेकिन उससे भी ज्यादा कोफ़्त तब होती है जब न्याय व्यवस्था अपनी कछुआ चाल से पीड़ितों के ज़ख्मों को सूखने नहीं देती है. 84 के दंगों पर दिल्ली की...