ब्लॉगसेतु

sahitya shilpi
0
जिंदगी और अन्य कवितायें - विनय भारत शर्मा ज़िन्दगी उछलती, मचलती,गडमडातीसाथ चलकर फडफ़ड़ाती,दुख- सुख, दर्द सुकूनहिस्सों में बटकरकहीं भटककररास्ते परबढ़ती गाड़ी ज़िन्दगी गुमनाम है।** समस्या मैं एक दिन चिंता में डूबा हुआ था,चिंता मुझे खा रही थीया मैं चिंता को ये समझ रहा था...
BAL SAJAG
0
"धीरे-धीरे मै दूर हो रहा हूँ"धीरे-धीरे मै सबसे।दूर होता जा रहा हूँ।।  पता नहीं मैं क्यों इतना। मजबूर होता जा रहा हूँ।। खुशियाँ  दूर जाती दिख रही हैं।  और दुःख बाहों में जकड़ रही हैं।। पढ़ाई में मन लगाने के बजाए।  सोशलमीडिया की ओर खिचा जा रहा...
BAL SAJAG
0
"जीना सीख" जब मै गिरा तो। उठाने कौन आएगा।। जब चोट लगेगी।  तब दिखलाने कौन जायेगा।। मै बैठा सोच रहा था।  अपने दिमाग के दरवाजे ठोक रहा था।।  अपने है तो,मै ये सोच रहा था।  अपने सर के बालों को नोच रहा था।।कि जिसका कोई नहीं है। जिसका घर ही नहीं है।।...
 पोस्ट लेवल : apna ghar bal kavita asha trust hindi poem hindi kavita
Atul Kannaujvi
0
नमस्ते दोस्तों, कुछ कुछ पंक्तियां सालों पहले की लिखी मेल के ड्राफ्ट में दर्ज थीं। आज देखीं तो सोचा कि इन्हें ठीकठाक आकार में ढालकर शेर बनाया जाए। करीब दस मिनट की मशक्कत के बाद ये तीन कुछ मिसरे हो सके। अखबार में काम करता हूं। इस समय आॅफिस जाने का अलार्म बज उठा है। इ...
 पोस्ट लेवल : mother poetry Poem on mother
BAL SAJAG
0
"मै अनजान हूँ"मै बहुत अनजान हूँ। अपने इस दुनियाँ से।। न समझ है मुझमें। न समझ है कदर की।। खुद से ही मैं परे हूँ। अपनी इस दुनियाँ में।। मोहलत और दुःख दोनों। खुशियों की बात करते है।। इस अनजान दुनियाँ  में। जहाँ  इंसानों की  कदर नहीं।। वहाँ दुनियाँ का...
sahitya shilpi
0
आज हमारे लिए बड़े सौभाग्य की बात है की हमें हर साल 26 जनवरी को गणतन्त्र  दिवस मनाने का मौका मिलता है| हर साल की तरह इस साल भी सभी को इस दिवस की बहुत बहुत शुभकामनाए व इस दिवस पर पेश है मेरे नई बाल कविता "मेरे सपनों का भारत "    मेरे सपनों...
BAL SAJAG
0
"मोती सी चमक" मोती सी चमक। घासों में नजर आता है।। वह मनोरम खुशबू। सिर्फ फूलों से महक आते है।। चाँद की रोशनी में भी। सितारे नजर आते है।। वह ओश की बूंद। दरवाजे पर दस्तक दे जाते है।।  मै रोज टहलता हूँ सुबह। कोहरा ही कोहरा नजर आता है।। इस ठंडे हवा के झोकों से।&nbs...
BAL SAJAG
0
 "हाथ पाँव हमारे काँप रहे हैं"हाथ पाँव हमारे काँप रहें हैं।   अब हर जगह आग तप रहें हैं।।  स्वेटर टोपी मोजा पहने। अब कहीं घूमने न निकलें।। सर सर ठंडी हवा का झोका। चलते-चलते कहीं उड़ जायें न टोपा।। अपने को बचाना पड़ जाता है मुश्किल। जम गए हैं दुनियाँ&nb...
BAL SAJAG
0
 "मै एक गुलाब हूँ" मै एक गुलाब हूँ।  मेरी  खूबसूरती ऐसी है।। की लोग मेरी तरफ खिचे आते हैं। मै एक गुलाब हूँ।। जो सबके दिलों पर राज करता हूँ। मेरी कलियाँ  इतनी अच्छी।। कि सब तोड़ना चाहते हैं।  मै एक गुलाब हूँ।। जो सबके साँसों में बसता ह...
Atul Kannaujvi
0
अतुल कन्नौजवीप्रतीकात्मक चित्र।      फोटो: साभारपूछते क्या हो यूं लेकर सवाल आंखों मेंपढ़ सको पढ़ लो मेरा सारा हाल आंखों मेंदेखना था कि समंदर से क्या निकलता हैबस यही सोच के फेंका था जाल आंखों मेंवो मिरे सामने आती है झुकाए पलकेंहया को रखा है उसने संभाल आ...