ब्लॉगसेतु

अपर्णा त्रिपाठी
173
जाडा इस बार अपने पूरे जोर पर था। पिछले तीन दिन से बारिश थी कि थमने का नाम ही न लेती थी। मगर गरीब के लिये क्या सर्दी क्या गरमी। काम न करे तो खाये क्या? बारिश में भीगने के कारण सर्दी बुधिया की हड्डियों तक जा घुसी थी। खांसती खखारती चूल्हे में रोटियां सेक रही थी, और का...
 पोस्ट लेवल : childhood poverty mother
Kajal Kumar
7
 पोस्ट लेवल : poverty ग़रीब ग़रीबी poor
Sanjay  Grover
308
व्यंग्यमहापुरुषों को मैं बचपन से ही जानने लगा था। 26 जनवरी, 15 अगस्त और अन्य ऐसेे त्यौहारों पर स्कूलों में जो मुख्य या विशेष अतिथि आते थे, हमें उन्हींको महापुरुष वगैरह मानना होता था। मुश्क़िल यह थी कि स्कूल भी घर के आसपास होते थे और मुख्य अतिथि भी हमारे आसपास के लोग...
Manish K Singh
663
१ .पता है दोस्त !वह भूख़ नहीं है !जो तुम्हें लगती है !तुम्हारें ब्रेकफास्ट और लांच के बीच !और न सबकी तपिश मिटा देने वाला पानी !मिटा पता है भूख़ !जानें दो तुम नहीं समझ सकते !२ .और पता है यार !जब सारी ज़ेबों को लगातार दस दिनों तक !खगालानें पर रोज निकलता हो दस का फटा नोट...
 पोस्ट लेवल : hunger unemployement Poverty नयी-कविता
डा.राजेंद्र तेला निरंतर
11
It was office timeIt was office timeShrunken bellyTears in eyesThe starving childHopefully staredAt the passers byTo have mercy Give something to eatMake him surviveEverybody lookedPityingly at himNobody had time forThe starving childAvoiding fineReaching office in...
 पोस्ट लेवल : poverty child humanity Hunger Life
Kajal Kumar
7
अपर्णा त्रिपाठी
173
मनोहर भइया आज हमार जी मा बार बार रहि रहि के जाने काहे ई बिचार आ रहा है जइसन हम कउनो दगा करा है। हमका कुच्छौ समझ नही आ रहा, का सही है का गलत। अब आपै हमका रास्ता दिखाओ।रहीम कल से राबर्ट कहलाने वाला था, गाँव में आये मिशनरी के लोगो से उसने घर की रोटियों के लिये धर्म पर...
 पोस्ट लेवल : poverty religion change humanity