ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
23
Hindi Story 'Shatranj ke Khiladi' — Munshi Premchandमुंशी प्रेमचंद की हिन्दी कहानीशतरंज के खिलाड़ीवाज़िदअली शाह का समय था। लखनऊ विलासिता के रंग में डूबा हुआ था। छोटे-बड़े, गरीब-अमीर— सभी विलासिता में डूबे हुए थे। कोई नृत्य और गान की मज़लिस सजाता था, तो कोई अफीम की...
संजीव तिवारी
12
..............................
 पोस्ट लेवल : Premsai Singh Tekam
Khushdeep Sehgal
61
9 नवंबर 2019राम मंदिर निर्माण के लिए रास्ता साफ़ होना...करतारपुर कॉरिडोर का खुलना...संयोग है कि ये दोनों बातें एक ही दिन, एक साथ हुईं...(30 साल पहले इसी तारीख को बर्लिन की दीवार भी गिरी थी)राम मंदिर हिन्दुओं की आस्था का प्रतीक है तो करतारपुर में दरबार साहिब गुरद्वा...
दिनेशराय द्विवेदी
58
- प्रेमचन्द राष्ट्रीयता वर्तमान युग का कोढ़ है. उसी तरह जैसे मध्यकालीन युग का कोढ़ साम्प्रदायिकता थी. नतीजा - दोनों का एक है. साम्प्रदायिकता अपने घेरे के अन्दर पूर्ण शक्ति और सुख का राज्य स्थापित कर देना चाहती थी, मगर उस घेरे के बाहर जो संसार था, उसको नों...
संजीव तिवारी
12
गोठान का लोकार्पण और प्रतियोगिता का किया शुभारंभछत्तीसगढ़ की परम्परा और संस्कृति को सहेजने का काम कर रही है सरकार -डॉ. प्रेमसाय सिंह टेकाम रायपुर, छत्तीसगढ़ की ग्रामीण संस्कृति का पहला और प्रमुख हरेली- आमुस तिहार (Aamus Tihar) आज बस्तर (Bastar) जिले में पार...
 पोस्ट लेवल : Pradesh Premsai Singh Tekam Bastar Hareli Tihar
sanjiv verma salil
6
मुंशी प्रेमचन्द (1923) कहिन *"खेल के मैदान में वही शख्स तारीफ का मुस्तहक ( अधिकारी )होता है जो जीत से फूलता नहीं, हार से रोता नहीं, जीते तब भी खेलता है, हारे तब भी खेलता है।------हमारा काम तो सिर्फ खेलना है, खूब दिल लगाकर खेलना, खूब जी तोड़ कर खेलना, अपने को हा...
 पोस्ट लेवल : प्रेमचन्द premchnd
Devendra Gehlod
45
..............................
 पोस्ट लेवल : story munshi-premchand
PRAVEEN GUPTA
86
साभार: नवभारत 
Roli Dixit
62
उस रोज़ पूछा था किसी ने हमसेतुम्हारा नाम क्या हैहमने ये कहकर उन्हेंमुस्कराने की वजह दे दीकि एक दूसरे का नाम न लेना ही तोहमारा प्रेम है...कितने बावले हैं लोगकि वो तुम्हें कहीं भी ढूंढ़ते हैंमेंडलीफ की आवर्त सारणी में,न्यूटन के नियम में,पाइथागोरस की प्रमेय में,डार्वि...
Bharat Tiwari
23
ऐश ट्रे, जैश-ए-मोहम्मद और वैलेंटाइन डेप्रेमा झा की कवितामैं एक संगठन बनाऊँगी और तमाम ऐसी लड़कियां शामिल करुँगी जो जवान आतंकियों को इश्क़ की इबादत करना सिखाएंगीये लड़कियां आतंकियों को चुम्बन के गुर बताएंगी और घंटों प्रेम-मयी बातों में कैसे लपेट कर कोई रख लेता पूरी रा...