ब्लॉगसेतु

manu prakash tyagi
60
वापसी में स्पीड बोट से फिर से बारातांग के लिये जाने में एक ही बात की कमी दिखायी दी कि इन स्पीड बोट में सूरज की लपलपाती किरणो से बचाव के लिये कैनोपी नही होती है । बारातांग जेटटी पर पहुंचने के बाद हमें अब इंतजार करना था अगले कानवाई के पहुंचने का । चूंकि कानवाई के चार...
 पोस्ट लेवल : ANDAMAN travel with bus ROADS
manu prakash tyagi
60
अंडमान का एयरपोर्ट दिल्ली, मुम्बई या फिर चेन्नई जैसे मैट्रो सिटीज के एयरपोर्ट के मुकाबले काफी छोटा है लेकिन यहां का रनवे इन सबसे सुंंदर है । एयरपोर्ट छोटा होने की वजह से हमें अपना सामान लेने में ना तो ज्यादा समय लगा और ना ही एयरपोर्ट से निकलने में । बाहर निकलकर हमे...
 पोस्ट लेवल : ANDAMAN travel with bus ROADS
manu prakash tyagi
60
इस पोस्ट में मै आपको दिखा रहा हूं चेन्नई से पोर्ट ब्लेयर तक के सफर की विंडो सीट से झलकी । चेन्नई शहर उपर से कैसा दिखता है और पोर्ट ब्लेयर तक पहुंचने के रास्ते में कुछ ऐसे द्धीप हैं जिनका नाम मुझे भले पता ना हो पर उसे करीब से देखने की इच्छा जरूर हो आयी । उफ क्या जगह...
 पोस्ट लेवल : ANDAMAN travel with bus nature ROADS BEACH
manu prakash tyagi
60
गो एयर का नाम सुनो तो बुरा सा लगता है क्योंकि इसके किराये सस्ते होते हैं तो हमारे दिमाग की मानसिकता है कि सस्ता है तो बेकार ही होगा पर ऐसा जरूरी भी नही है । नयी एयरलाइन है और बिलकुल नये जहाज हैं । बढिया नयी एसी गाडियो में हम जहाज तक पहुंचे । हमारी सीट जहाज के मध्य...
 पोस्ट लेवल : MAHARASHTHRA ANDAMAN travel with bus nature ROADS BEACH
manu prakash tyagi
60
दस दिन के बाद मैने एक बार और बात करने का फैसला किया । पहले गो एयर की साइट चैक की तो उनकी साइट पर चेन्नई से पोर्ट ब्लेयर की उडाने थी पर दिल्ली से नही थी । हमारी उडान दिल्ली से चेन्नई और चेन्नई में आधे घंटे रूककर पोर्ट ब्लेयर जाने वाली थी । एक तरह से सीधी कह सकते थे...
 पोस्ट लेवल : ANDAMAN travel with bus nature ROADS BEACH
manu prakash tyagi
60
अंडमान जाने का सपना हर आदमी का होगा और होगा भी क्यों नही ? सुंदर समुद्र तट , चमकीला और नीला आसमान और नीचे नीले रंग का समुद्र , हरा भरा द्धीप , कम जनसंख्या , ना के बराबर प्रदूषण और क्या चाहिये । यही सब चीज तो हैं जो हमें अपने यहां पर नही मिलती हैं । मैने वैसे अंडमान...
 पोस्ट लेवल : ANDAMAN travel with bus nature ROADS BEACH
Bhavana Lalwani
359
सड़कें  आजकल मुझे एक अजब फिलॉसॉफी की तरह लगती हैं. हर रोज़ दफ्तर तक जाने के लिए मुझे दस किलोमीटर का रास्ता तय करना होता है.  और तब थोड़ी थोड़ी देर में मुझे सड़क के कई रंग रूप और नक़्शे दिखाई देने लगते हैं. जाने क्या क्या विचार सूझने लगते हैं. सड़कें एक फैले...
Bhavana Lalwani
359