ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
19
मार्क्सवाद का अर्धसत्य के बहाने एकालाप— पंकज शर्माअनंत ने पूरी दुनियाभर के जनसंघर्षों को एक नया आयाम प्रदान करने वाले महानायक के निजी जीवन संदर्भों के हवाले से उन्हें खलनायक घोषित कर दिया और भारतीय सामाजिक परंपरा के परिप्रेक्ष्य में उनका मूल्यांकन करने के फिराक में...
sanjiv verma salil
6
कृति चर्चा: ''पाखी खोले पंख'' : गुंजित दोहा शंख [कृति विवरण: पाखी खोले शंख, दोहा संकलन, श्रीधर प्रसाद द्विवेदी, प्रथम संस्करण, २०१७, आकार २२ से.मी. x १४ से.मी., पृष्ठ १०४, मूल्य ३००/-, आवरण सजिल्द बहुरंगी जैकेट सहित, प्रगतिशील प्रकाशन दिल्ली, दोहाकार संपर...
sanjiv verma salil
6
समीक्षा ;सुधियों की देहरी पर - दोहों की अँजुरी समीक्षाकार आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*[कृति विवरण: सुधियों की देहरी पर, दोहा संग्रह, तारकेश्वरी तरु 'सुधि', प्रथम संस्करण २०१९, आई.एस.बी.एन. ९७८९३८८४७१४८०, आकार २१.५ से.मी. x १४ से.मी., आवरण सजिल्द बहुरंगी, जै...
sanjiv verma salil
6
समीक्षा :बुधिया लेता टोह : चीख लगे विद्रोहआचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'स्वातंत्र्योत्तर भारतीय साहित्य छायावादी रूमानियत (पंत, प्रसाद, महादेवी, बच्चन), राष्ट्रवादी शौर्य (मैथिली शरण गुप्त, माखन लाल चतुर्वेदी, दिनकर, सोहनलाल द्विवेदी) और प्रगतिवादी यथार्थ (निराला, नागार...
sanjiv verma salil
6
पुस्तक चर्चा -'मैं पानी बचाता हूँ' सामयिक युगबोध की कवितायेँचर्चाकार- आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*[पुस्तक विवरण- मैं पानी बचाता हूँ, काव्य संग्रह, राग तेलंग, वर्ष २०१६, ISBN ९७८-९३-८५९४२-२३-५, पृष्ठ १४४, मूल्य १२०/-, आकार २०.५ से.मी. x १४ से.मी., आवरण बहुरंगी पेपरबैक...
sanjiv verma salil
6
कृति समीक्षा :'दिन कटे हैं धूप चुनते' हौसले ले स्वप्न बुनते समीक्षाकार : आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*[कृति विवरण : दिन कटे हैं धूप चुनते, नवगीत संग्रह, अवनीश त्रिपाठी, प्रथम संस्करण २०१९, आईएसबीएन ९७८९३८८९४६२१६, आकार २२ से.मी. X १४ से.मी., आवरण सजिल्द...
sanjiv verma salil
6
पुरोवाक:हास्य साहित्य परंपरा और 'चमचावली' हास्य-व्यंग्य की दीपावली आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल' *मार्क ट्वेन ने कहा है कि हँसना एक गुणकारी औषधि है मगर इस औषधि को देनेवाला डॉक्टर बहुत मुश्किल से मिलता है। आजकल हर मंच पर हास्य-व्यंग पढ़ने का फैशन होने के बाद भी...
sanjiv verma salil
6
समीक्षा :''है छिपा सूरज कहाँ पर'' : खोजिए नवगीत मेंआचार्य संजीव वर्मा 'सलिल"*[कृति विवरण : है छिपा सूरज कहाँ पर, नवगीत संग्रह, गरिमा सक्सेना, प्रथम संस्करण २०१९, आई.एस.बी.एन. ९७८९३८८९४६१७९, आकार २२ से.मी. x १४.से.मी., आवरण बहुरंगी सजिल्द लेमिनेटेड जैकेट सहित,...
sanjiv verma salil
6
पुस्तक चर्चा : ''कालचक्र को चलने दो'' भाव प्रधान कवितायें '' [पुस्तक विवरण: काल चक्र को चलने दो, कविता संग्रह, सुनीता सिंह, प्रथम संस्करण २०१८, पृष्ठ १२५, आकार २० से.मी. x १४.५ से. मी., आवरण बहुरंगी पेपर बाइक लेमिनेटेड, २००/- प्रतिष्ठा पब्लिशिंग हाउस, लखनऊ] *सा...
sanjiv verma salil
6
पुस्तक चर्चा:'बुंदेली दोहे' सांस्कृतिक शब्द छवियाँ मन मोहेचर्चाकार: आचार्य संजीव वर्मा 'सलिल'*[कृति विवरण: बुंदेली दोहे, दोहा संग्रह , आचार्य भगवत दुबे, प्रथम संस्करण २०१६, आकार डिमाई, आवरण बहुरंगी पेपरबैक, पृष्ठ १५२, मूल्य ५०/-, ISBN ९७८-९३-८३८९९-१८-०, प्रकाशक आदि...