ब्लॉगसेतु

अमितेश कुमार
171
संजय उपाध्याय का यह लेख रंग प्रसंग के ५२वें अंक में प्रकाशित है, जिसका संपादन वरिष्ठ रंग निर्देशक देवेन्द्र राज अंकुर ने किया है. रंग प्रशिक्षण  पर केंद्रित रंग प्रसंग के दो महत्वपूर्ण अंक प्रकाशित हुए हैं. रंगविमर्श की कोशिश रहेगी कि कुछ सामग्रियां इंटर...
अमितेश कुमार
171
रंगमंच वर्तमान में घटित होने वाली कला हैऔर इस कारण यह वर्तमान में हस्तक्षेप भी करता है अपनी जीवंतता से. इससे अपेक्षा भी की जाती है कि यह अपने समय के सवालों को संबोधित करे और उस पर बहस करे. इसे जोर देकर कहना चाहिए कि रंगकर्म ऐसी कला है जो अपने समय की सत्ता से सच कहत...
अमितेश कुमार
171
सुबह सुबह पटना में आप प्रेमचंद रंगशाला पहुंचिए या शाम में ही और प्रेक्षागृह के चारो ओर एक चक्कर लगाइए,  थोड़े थोड़े अंतराल पर रंग समूह पूर्वाभ्यास करते हुए मिल जाएंगे। ये यहां रोज मिलते हैं, आपस मे सीखते हैं और कभी कभी कोई बाहर से आकर कार्यशाला कराता है तो उसम...
अमितेश कुमार
171
रंगमंच की संस्था 'निर्माण कला मंच' की स्थापना का तीसवां साल शुरू होने पर ये अंश जो संजय उपाध्याय से लंबी बातचीत का हिस्सा है.मेरा दाखिला राष्ट्रीय नाट्य विद्यालय (रानावि) के लिए हो चुका था. होता क्या था कि छुट्टियाँ जो छ: महीने पर होती थी उसमें मैं पटना चला जाता था...
अमितेश कुमार
171
बचपन में हम ननिहाल ज्यादा रहेभोजपुर में. मेरा गावँ मगह में है. मेरा बचपन अधिक ननिहाल में गुजरा. ये बहुत कम लोग जानते हैं लगभग छुपा हुआ हैकि मैं मगही हूँ.  मेरा गांव मगह में है. इसलिए कुछ लोग कहते भी है किमैंने मगही के लिए कुछ नहीं किया.पिता जी कीट्रान्ससफरेबल...
 पोस्ट लेवल : sanjay upadhyaya संजय उपाध्याय
अमितेश कुमार
171
इस बार का भारंगम इक्कीस दिनों तक चला. दिनों की अवधि बढ़ा दिये जाने से प्रस्तुतियों की संख्या नहीं बढ़ी लेकिन भारंगम फैल गया. इन इक्कीस दिनों में भारंगम में नाट्यप्रस्तुतियों के अतिरिक्त परिसर प्रस्तुतियां भी हुईं. एक तो ऐसी भी प्रस्तुति को शामिल किया गया था जो मुख्यत...
अमितेश कुमार
171
हमारे समय में आदिवासी जीवन या उनके परिवेश पर आया संकट नया नहीं है इसके स्रोत एतिहासिक हैं. आधुनिक समय के इस संकट का करीबी रिश्ता अंग्रेजी शासन से जुड़ता है जब उसने जंगल की सामग्रियों की राज्य की संपति घोषित कर दिया, जमीन का बंदोबस्त करके स्थानीय सामंत पैदा किये जिसक...
अमितेश कुमार
171
अनुरूपा राय की प्रस्तुति ‘एनेक्डाटस एंड एलीगरिज बाई गुलबदन बेगम’ का आलेख चोयती घोष ने लिखा है जो बाबर की पुत्री गुलबदन बेगम  के लेखन के रास्ते मुगल वंश के तीन शासकों बाबर, हुमायुं और अकबर की यात्रा को दिखाता है. उम्र के छठे दशक में अकबर ने उन्हें वह सब लिखने क...