ब्लॉगसेतु

Mahesh Barmate
384
कुछ अंदर दबा हुआ सा है चुभता है ठूंठ साअपनी आवाज को भी नहीं सुनता मैंचीखता हूँ गूँज सा। एक तरफ तन्हाइयों का शोर है दूजी तरफ ग़मों का सन्नाटा पसरा हुआ हैकिस तरफ रखूँ कदम अपने फर्श पे मेरा मैं बिखरा हुआ है। अपनी लाश पे चलकेनिकल जाना हैऐ दुनिया! तुझसे मेराऐसा ही रिश्ता...
 पोस्ट लेवल : tanhai kuch to hai hindi hindi poem mahesh barmate maahi
आदित्य सिन्हा
523
Here is another take inspired by Indispire edition 49  #Solitude - A poem in Hindi - Main aur Meri Tanhaiमैं और मेरी तन्हाई Main Aur Meri TanhayiDonon ka hai Gehra Saath,Khushi Mein Hain Daman Failate, Gam mein Bhi Thamte haath,Raat Hoti gar lam...
Manav Mehta
414
जिंदगी दर्द में दफ़न हो गई इक रात,उदासी बिखर गई चाँदनी में घुल कर....!!चाँद ने उगले दो आँसू,ज़र्द साँसें भी फड़फड़ा कर बुझ गयी......!!इस दफा चिता पर मेरे-मेरी रूह भी जल उठेगी.........!!मानव मेहता 'मन'  
Manav Mehta
414
मानो इक ही कहानी का हक़दार था मैं...साल दर साल गुजरते गए,हर लम्हे को पीछे छोड़ा मैंने,मगर आज तक ये मलाल है मुझको,कि मेरी जिंदगी कि किताब के हर सफ्हे पर;एक सी ही लिखावट नज़र आई है मुझे...गम ; अफ़्सुर्दगी ; रंज ; और तन्हाई;बस इन्ही लकीरों में जिया जाता हूँ हर लम्हा.....
 पोस्ट लेवल : coffin kahani poem nazm tanhai manav mehta
Mahesh Barmate
384
तन्हा सर्द रातें,बस कटती हैंयूँ ही कर कर के खुद से ही बातें।वो कहती है के तुम मुझको क्यों याद नहीं करते ?पर कैसे बताऊँ अब उसे मैं के वो कौन सा पल है जब खुद से उसकी बात नहीं करते ...वो रूठ गई है मुझसे बिना  मेरी गलती बताए ...आखिर जाने क...
Mahesh Barmate
384
मैं हर पल रहा, हर महफ़िल में उनकी,फिर भी न जाने क्यों, हर दम मैं तन्हा ही रहा...?दिल से मिल के मैंने,दी हर किसी को इस दिल में पनाह,फिर भी जाने क्यों हर दम,मैं बेपनाह ही रहा?हर कश्ती का मुसाफिर मुझसे,रास्ता पूछता गयाऔर खुद समंदर में होके भी मैं,साहिल की तलाश में प्य...
 पोस्ट लेवल : hindi poem hindi तन्हा hindi kavita ghazal tanhai