ब्लॉगसेतु

Bharat Tiwari
0
अश्विन सांघी वह पब्लिक इन्टलेक्चूअल हैं जिनकी बात सबको सुननी चाहिए। अश्विन के तर्क असली होते हैं, और शायद यही कारण है कि असलियत से दूर भागते लोग उनके तर्कों से मुंह छिपाते हैं। पढ़िए इस उत्कृष्ट लेख को समझिये चीन से कैसे जीतें और सांघी जी को इसे भेजने का श...
Bharat Tiwari
0
इरफ़ान ख़ान पर लिखा, विविध भारती के उद्घोषक, फिल्मों के गहरे जानकार, लेखक यूनस ख़ान का यह लेख इरफ़ान ख़ान की जीवनी तो नहीं है, लेकिन अब तक पढ़ी इरफ़ान ख़ान की प्रोफाइल में सर्वश्रेष्ठ है। ... भरत एस तिवारी/शब्दांकन संपादकइरफ़ान ख़ान, गहरी आंखों और स...
Bharat Tiwari
0
कालाहांडी की यह हांड कंपाने वाली घटना जिसमें रिश्ते में भाई ने बहन के साथ कौटुम्बिक व्यभिचार किया. विकास की परतें दिखाती यह रिपोर्ट, वरिष्ठ पत्रकार अमरेंद्र किशोर की आगामी पुस्तक "ये माताएं अनब्याही हैं" का अगला अंश.शोषण के भी जीवंत मूल्य होते हैं और उन मूल्यों के...
Bharat Tiwari
0
प्रताप भानु मेहता का अंग्रेज़ी लेखन मेरे लिए हिन्दुस्तानी अंग्रेज़ी लेखकों में सबसे बेहतर है. पीबीएम के न सिर्फ़ विचार और टिप्पणियाँ गहरी होती हैं बल्कि लेखन भी, उससे कहीं अधिक. प्रतापजी का यह लेख इन्डियन एक्सप्रेस में छपा था, और इसकी हिंदी में ज़रुरत समझते हुए, मेरी य...
Bharat Tiwari
0
निश्चित ही हरेक के पास पूरी आजादी है कि वह किस विचारधारा को अपनाए। लेकिन किसी को भी यह अधिकार नहीं कि अपनी विचारधारा को पोषित करने के लिए तथ्यहीन टिप्पणिया करे या फिर सोशल मीडिया में प्रतिदिन लाखों की तादात में फेंके जा रहे ‘कूड़े’ को अपना समर्थन दे — अपूर्व जो...
Bharat Tiwari
0
DP Tripathi Dies, DP Tripathi, a big literary figure of politics, Senior NCP Leader Passes awayहाल ही में हिंदी को वर्तमान राजनीति में उसके सबसे बड़े साहित्यप्रेमी देवी प्रसाद त्रिपाठी के निधन का सामना करना पड़ा है.  प्रखर युवा कहानीकार भूमिका द्विवेदी अश्क के उ...
Bharat Tiwari
0
दिल्ली, इन्द्रप्रस्थ से शाहजहांबाद तक— नलिन चौहानदिल्ली हिंदुस्तान की राजधानी है। यह अकेला ऐसा शहर है, जिसका इतिहास देश के इतिहास से गुंथा हुआ है। इस शहर की पहचान यानि उसके नामों को लेकर कई ऐतिहासिक मत हैं। समय की धारा में इस शहर के अनेक पर्यायी नाम प्रचलन में रहे...
Bharat Tiwari
0
टीआरपी के बिसातियोंन प्राइम टाइम में हंगामा मचा और न कोई कवर स्टोरी सामने आयी अनब्याही माता होने की पीढ़ीगत परम्परा के अनगिनत महीन और भद्दी वजहों को तलाशता कोई नौकरशाह नहीं मिला, कोई समाजसेवी भी नहीं और कोई पत्रकारनुमा सोशल एक्टिविस्ट भी नहीं दिखा। तब ऐसी खबरें...
Bharat Tiwari
0
#पत्र_शब्दांकन: मृदुला गर्ग नया ज्ञानोदय, सितम्बर २०१९ कथा-कहानी विशेषांक आदि परकहते हैं फंतासी को चारों पैरों पर खड़ा होना चाहिए वरना न फंतासी रहती है, न सच...कहानी 'नरम घास, चिड़िया और नींद में मछलियां')  मैने 'नया ज्ञानोदय' में ही पढ़ ली थी। बहुत ही शानदा...
Bharat Tiwari
0
‘आइटी सेल’ मानसिकता का विषाणु उदारवाद, लोकतंत्र और सामाजिक न्याय की पक्षधरता का दावा करनेवाले के मस्तिष्क को भी संक्रमित कर रहा है — प्रकाश के रेसम्पादकीयरवीश कुमार के सम्मान से चिढ़ क्यों!— प्रकाश के रेपिछले महीने जब रवीश कुमार को पत्रकारिता के क्षेत्र में उत...