ब्लॉगसेतु

Kajal Kumar
7
E & E Group
16
आंखें हमारे चेहरे का सबसे आकर्षक हिस्‍सा हो&#2340...
 पोस्ट लेवल : Eyes Makeup Beauty Fashion Make up Beautiful
Ankita  Sahu
667
INDORE THRU MY EYESनमस्कार दोस्तों,               आज एक बार फिर मैं अपना Hindi Blog लेकर आपके समक्ष उपस्थित हूं आज का मेरा यह Blog किसी यात्रा वृत्तांत प्रेरित नहीं है बल्कि यह मेरे अनुभवों का एक संस्मरण है जिसे मैं आप लोगों...
Pratibha Kushwaha
482
#VaayaMoodalCampaign यानी #सट योर माउथ कंपेन यानी #अपना मुंह बंद करो। यह मुंह बंद कराने का अभियान केरल में चलाया गया, जिसका परिणाम भी तुरंत दिखा। #मी टू कंपेन में जहां महिलाओं से अपना मुंह खोलने की अपील की गई थी, इसके बरक्स #सट योर माउथ कंपेन में ऐसे व्यक्तियों को...
Sanjay  Grover
702
ग़ज़लताज़गी-ए-क़लाम को अकसरयूं अनोखा-सा मोड़ देता हूंजब किसी दिल से बात करनी होअपनी आंखों पे छोड़ देता हूंसिर्फ़ रहता नहीं सतह तक मैंसदा गहराईयों में जाता हूंजिनमें दीमक ने घर बनाया होवो जड़ें, जड़ से तोड़ देता हूं08-07-1994कैसी ख़ुश्क़ी रुखों पे छायी हैलोग भी हो गए बु...
लोकेश नशीने
547
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); ख्वाब की तरह से आँखों में छिपाए रखनाहमको दुनिया की निगाहों से बचाए रखनाबिखर न जाऊं कहीं टूटकर आंसू की तरहमेरे वजूद को पलकों पे उठाए रखनाआज है ग़म तो यक़ीनन ख़ुशी भी आएगीदिल में एक शम्मा तो उम्मीदों की...
लोकेश नशीने
547
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); हलचल सी मची हैउम्मीदों की बस्ती मेंगिरने लगे हैंतमन्ना के झुलसे हुये शजर कुछ ही देर में ढाँक लेगाअहसास के आसमां कोपिघले हुये ख़्वाबों कालावा और गुबारक्योंकि आँखों में फूट पड़ा हैवादी-ए-ख़्वाब मेंसोया...
Shirin Taskin
228
थक गयीं ये अखियाँ तेरा पंथ निहारते निहारते कुछ नमी थी मेरी आँखों में अब वो जम गई है थक गयीं ये अखियाँ तेरा पंथ निहारते निहारते तेरे साथ बिताया हुआ वो लम्हा कोई लौटा दे उसके बदले मेरी सबसे अनमोल चीज ले ले थक गयीं ये अखियाँ तेरा पंथ निहारते निहारतेशीरीं मंसूरी 'तस्की...
 पोस्ट लेवल : Affection Eyes Love
prabhat ranjan
31
जब दो सप्ताह पहले ‘जनसत्ता’ में प्रकाशित अपने लेख में  प्रोफ़ेसर गोपेश्वर सिंह ने लप्रेक लेखक रवीश कुमार को टीवी पत्रकार कहकर याद किया था तो सबसे पहले मेरे ध्यान में यह सवाल आया था कि क्या लेखक होने के लिए किसी ख़ास पेशे का होना चाहिए? हम शायद यह भूल ज...
सुनील  सजल
248
..............................
 पोस्ट लेवल : hindi satire eyes vyangya