ब्लॉगसेतु

पीताम्बर शम्भू

 दिल्ली, भारत   पुरुष

निज भाषा उन्नति अहै, सब उन्नति को मूल। बिन निज भाषा-ज्ञान के, मिटत न हिय को सूल।।