ब्लॉगसेतु

Mrinal Krant
0
Courtesy HBR article... The 30 Elements of Consumer Value: A Hierarchy (hbr.org) Many of the studies involved the well-known interviewing technique “laddering,” which probes consumers’ initial stated preferences to identify what’s driving themIn our resea...
Mrinal Krant
0
 When customers evaluate a product or service, they weigh its perceived value against the asking price. Marketers have generally focused much of their time and energy on managing the price side of that equation, since raising prices can immediately b...
Mrinal Krant
0
 Like many other US/Canadian companies , Bangalore is a back office Mecca for some not so good companies too.This one called Just Energy has been fraught with controversies and fraud charges against them, courts kept punishing them for sales fraud, sham founde...
Mrinal Krant
0
This is great article by Mark Effron...a legend and a thinker at the cusp of past and future practices. Please read this article, link HERE.My 2 cents on his article below- Deloitte renamed the Competency Model to Capability Model.Marc wants it to be cris...
जेन्नी  शबनम
0
हाँ! मैं बुरी हूँ *******मैं बुरी हूँ   कुछ लोगों के लिए बुरी हूँ   वे कहते हैं-   मैं सदियों से मान्य रीति-रिवाजों का पालन नहीं करती   मैं अपनी सोच से दुनिया समझती हूँ   अपनी मनमर्ज़ी करती हूँ, बड़ी ज़िद्दी हू...
Mrinal Krant
0
Super surprising to to see Delhi office reenting cost is higher than that of Boston, Singapore,  Paris etc..Below, what percentage of workforce can actually work from home?  Work from home benefits to companies: Save real estate cost, save emplo...
विमलेश त्रिपाठी
0
  कृष्णमोहन झा के कविता का संसार पृथ्वी और आकाश से लेकर चिटियों तक फैला हुआ है – कवि की स्मृतियाँ कई बार चकित करती हैं और चकित करता है उन स्मृतियों को कविता में अपनी पूरी कला से साथ उकेर देना। इस दुनिया में लगातार पसर रही कुरूपता को लेकर कवि हताश तो होता है ले...
Mrinal Krant
0
Disclaimer: I am a big fan of Prabir and only try to place my views not in opposition but as a parallel view, in all respects. He is a very good human being and is no different than other great leaders you have worked with. Look beyond culture-fit for better t...
राजीव तनेजा
0
अमूमन मैं कविताओं और उनके संकलनों से थोड़ा दूर रह..उनसे बचने का प्रयास करता हूँ। ऐसा इसलिए नहीं कि कविताएँ मुझे पसंद नहीं या मुझे उनसे किसी प्रकार की कोई एलर्जी है। दरअसल मुझे ये लगता है कि कविताओं के बारे में ठोस एवं प्रभावी ढंग से कुछ कह या लिख पाने की मेरी समझ एव...
राजीव तनेजा
0
आमतौर पर जब भी कोई नया नया लिखना शुरू करता है तो उसके मन में सहज ही यह बात अपना घर बना लेती है कि उसे ज़्यादा से ज़्यादा लोगों तक इस प्रकार पहुँचना है कि सब उसकी लेखनी को जानें..समझें और उसकी प्रतिभा..उसके मुरीद होते हुए उसके लेखन कौशल को सराहें। इसी कोशिश में वह चाह...