ब्लॉगसेतु

शिवम् मिश्रा
4
प्रिय ब्लॉगर मित्रों,प्रणाम | "हर एक लकीर, एक तजुर्बा है जनाब, झुर्रियां चेहरों पर, यूँ ही आया नही करती।" - अज्ञातसादर आपकाशिवम् मिश्रा  ~~~~~~~~~~~~~कोशिश का मूल्यांकनमैं भाग रही हूँ तुमसे दूरसंतुष्ट है भारतकच्चे केले का चोखाभजन-कीर्तन भी दिनचर्या की औप...
dilbagvirk
136
कुछ कोशिशें नाकाफ़ी थी, कुछ लकीरों का असर था चलना, थकना, हारना, बस यही मेरा मुक़द्दर था। न तो ख़ुशियाँ बटोर सका, न ही ठुकरा पाया इसेमेरा बसेरा कभी सराय, कभी मकां, कभी घर था। ग़ैर तो ग़ैर थे आख़िर मौक़े मुताबिक़ बदल गए वे अपने ही थे, मारा जिन्होंने पहला पत्थर था। लोग तो दुश...
Juban-ए- दास्तां
359
मैं चाहती थी एक कविता लिखनापर वो शब्द आते नहीं मेरे ज़हन मेंजो बयां कर सके उन संवेदनाओ को,जो महसूस होती हैं उन हर एक माता-पिताओं को,जिनके नोनिहालों ने ऑक्सीजन की कमी सेतोड़ दी थीं सांसे, छोड़ दिया था शरीर,और चले गए इस दुनिया से कहीं बहुत दूर।जिनकी उम्मीदें पंख लगने से...
Anurag Choudhary
735
एंड्राइड फोन का कोई बटन काम नहीं करता हैंग हो गया है नो प्रॉब्लम समाधन बहुत ही आसान है दोस्तों कई बार हमें ऐसी स्थिति का सामना करना पड जाता है कि हमारा एंड्राइड स्मार्टफोन चालू रहता है परन्तु उसके किसी भी बटन/आइकॉन को टच करो तो काम नहीं करता। दोस्तों हालांकि, कुछ...
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : समीक्षा
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
Rajeev Upadhyay
209
बात सुलगी तो बहुत धीरे से थी, लेकिन देखते ही देखते पूरे कस्बे में 'धुआँ' भर गया। चौधरी की मौत सुबह चार बजे हुई थी। सात बजे तक चौधराइन ने रो-धो कर होश सम्भाले और सबसे पहले मुल्ला खैरूद्दीन को बुलाया और नौकर को सख़्त ताकीद की कि कोई ज़िक्र न करे। नौकर जब मुल्ला को आँ...
 पोस्ट लेवल : अनुवाद कहानी गुलजार
रविशंकर श्रीवास्तव
3
..............................
 पोस्ट लेवल : कविता
अपर्णा त्रिपाठी
173
मधुर अपने विघालय का एक सीधा सादा, होनहार छात्र और माता पिता का आज्ञाकारी बेटा था, इसी वर्ष उसके पिता अपने परिवार सहित गाँव से शहर नौकरी के लिये आये थे। जब उसके पिता को अपने साथ काम करने वाले लोगो से पता चला कि सिटी मॉन्टेसरी लखनऊ के चुनिंदा विघालयों में से है तो उन...
 पोस्ट लेवल : attempt try
Ashish Shrivastava
100
लेखक : ऋषभ खगोलशास्त्र भौतिकी की एक ऐसी शाखा है जिसकी लोकप्रियता तकनीक के विकास के साथ बढ़ी है। समस्त विश्व से छात्र विश्व के शीर्ष विद्यालयो मे बैचलर, मास्टर तथा डाक्टरल डीग्री के लिये प्रवेश लेने का प्रयास करते है। मूलभूत खगोलभौतिकी (Basics of Astrophysics)’ शृंखल...