ब्लॉगसेतु

S.M. MAsoom
0
जौनपुर किले के निर्माण के समय फिरोज शाह तुगलक (बरनी द्वारा उल्लेखित) के भाई उलुग इब्राहिम नायब बरबक ने किले की मस्जिद का निर्माण करवाया था।  यह अटाला मस्जिद के निर्माण से पहले जौनपुर की प्रमुख मस्जिद के रूप में इस्तेमाल होती थी।  बंगाली/मिस्र शैली में निर...
dr neelam  mahendra
0
 कहते हैं किसी भी देश का इतिहास उसका गौरव होता है। हमारे देश का इतिहास भी हमारा गौरव है। आज़ादी के 75 वें स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर हम आपके लिए लेकर आ रहे हैं भारत का गौरवशाली इतिहास एक नए अंदाज में  क्योंकि ये है भारत की वो कहानी जो अबतक के अंग्रेजों द्व...
Pushpendra singh
0
Nagar nigam license  क्या हे और कैसे ले इसे:-दोस्तों यदि आप कोई Shop , ठेला, कोचिंग , शोरूम या स्टोर शुरू कर रहे हे या आप ने शुरु कर ली हे और आप का ये जगह के अंदर आता हे तो आप को राज्य सरकार के nagar nigam डिपार्टमेंट में nagar nigam license के तहत अपनी दुकान...
 पोस्ट लेवल : Business license Business registration
राजेश त्रिपाठी
0
आपने बहुत से साधु-संन्यासियों को रुद्राक्ष की माला पहने हुए देखा होगा। रुद्राक्ष धारण करने से कई तरह के लाभ होते हैं। जीवन में नकारात्मक ऊर्जा नहीं आ पाती और सकारात्मक ऊर्जा का संचार होता है। रुद्राक्ष धारण से जीवन के हरप्रकार के कष्टों से मुक्ति मिलती है। आइए सर्व...
Jot Chahal
0
   ਜਦੋਂ ਮੈਂ ਹਰ ਸਵੇਰ ਉੱਠਦਾ ਹਾਂ। ਮੈਂ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦੇ ਤੋਹਫ਼ੇ ਲਈ ਉੱਚ ਸ਼ਕਤੀ ਦਾ ਧੰਨਵਾਦ ਕਰਦਾ ਹਾਂ। ਮੇਰੀ ਜਿੰਦਗੀ ਵਿਚ ਰਹਿਣ ਲਈ ਮੈਂ ਆਪਣੀ ਪਤਨੀ ਦਾ ਧੰਨਵਾਦ ਕਰਦਾ ਹਾਂ। ਮੈਂ ਆਪਣੇ ਸਾਰੇ ਦੋਸਤਾਂ ਅਤੇ ਸਾਰਿਆਂ ਦਾ ਮੇਰੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਵਿਚ ਆਉਣ ਲਈ ਧੰਨਵਾਦ ਕਰਦਾ ਹਾਂ। ਮੈਂ ਆਪਣੇ ਕੁੱਤੇ ਦਾ ਬਿਨਾਂ ਸ਼ਰਤ ਪ...
 पोस्ट लेवल : Punjabi Language
Jot Chahal
0
   ਜਦੋਂ ਮੈਂ ਹਰ ਸਵੇਰ ਉੱਠਦਾ ਹਾਂ। ਮੈਂ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਦੇ ਤੋਹਫ਼ੇ ਲਈ ਉੱਚ ਸ਼ਕਤੀ ਦਾ ਧੰਨਵਾਦ ਕਰਦਾ ਹਾਂ। ਮੇਰੀ ਜਿੰਦਗੀ ਵਿਚ ਰਹਿਣ ਲਈ ਮੈਂ ਆਪਣੀ ਪਤਨੀ ਦਾ ਧੰਨਵਾਦ ਕਰਦਾ ਹਾਂ। ਮੈਂ ਆਪਣੇ ਸਾਰੇ ਦੋਸਤਾਂ ਅਤੇ ਸਾਰਿਆਂ ਦਾ ਮੇਰੀ ਜ਼ਿੰਦਗੀ ਵਿਚ ਆਉਣ ਲਈ ਧੰਨਵਾਦ ਕਰਦਾ ਹਾਂ। ਮੈਂ ਆਪਣੇ ਕੁੱਤੇ ਦਾ ਬਿਨਾਂ ਸ਼ਰਤ ਪ...
 पोस्ट लेवल : Punjabi
Jot Chahal
0
  "Every alphabet remains incomplete, Without the smell of your feeling of my poetry" :- by Author Ranjot Singh Chahal " Do not call a person bad. Some goodness must be present in that bad person " :- by Author Ranjot Singh Chahal "Alw...
राजेश त्रिपाठी
0
इस प्रसंग में आने से पहले यह जान लेते हैं कि स्वयं भ्राता लक्ष्मण को भी पता नहीं चला कि उनके बड़े भ्राता ने क्या चरित्र रचा है।  इस बारे में पूज्यपाद गोस्वामी तुलसी दास जी ने रामचरित मानस में लिखा है।लक्ष्मणहुँ यह मरम ना जाना । जा कुछ चरित रचा भगवाना ।।सीता के...
girish billore
0
..............................
 पोस्ट लेवल : राखी आह्वान पर्यावरण
girish billore
0
..............................
 पोस्ट लेवल : acceptance rejection success