ब्लॉगसेतु

अनीता सैनी
91
 मन दुछत्ती पर अक्सर छिपाती हूँ  अनगिनत ऊँघती उमंगों की चहचाहट एहसास में भीगे सीले से कुछ भाव उड़े-से रंगो में लिपटी अनछुई-सी  बेबसियों का अनकहा-सा ज़िक्र  व्यर्थ की उपमा पहने दीमक लगे  भाव विभोर अकुलाए-से कुछ प्रश्नढाढ़स के किव...
Sagar Das
312
 आपके लिए लाये है flirt shayari का एक शानदार और जबरदस्त कलेक्शन जो आपको बेहद पसंद आएगा।flirting पसंद करने वाली लड़कियों के लिए हमने बेहतरीन flirt shayari hindi में दिया है जिसमें सभी प्रकार के flirt shayari in hindi दिए गए हैं.फ़्लर्ट शायरी "दिल की धड़कन और मे...
 पोस्ट लेवल : Love Status Love Shayari Shayari
Yashoda Agrawal
366
 अफ्रीकी देश तंजानिया अनोखी आदिम जनजातियों की मातृभूमि रही है और उन्हीं में से एक है पाषाण कालीन शिकारी जनजाति- हडजा।    हडजा समुदाय की जिसका सिर्फ इतिहास पाषाण युग से नहीं चला आ रहा बल्कि यहां की परंपराएं आज भी उतनी ही प्राचीन हैं। हडजा लोग अपन...
निवेदिता श्रीवास्तव
93
भीनी- भीनी सी बदली का एक छोटा सा टुकड़ा दूर कहीं आसमान में लहराता दिख रहा था ,जैसे अपने झुण्ड से एक मेमना अलग हो भटक रहा हो । कभी वह सूरज की थोड़ी ऊष्ण होती सी किरणों के सामने आ कर आँखों को सुकून दे जाती ,तो कभी तप्त किरणों के आगे से जैसे जल्दी से हट जाती थी । ब...
4
--कल्पनाएँ डर गयी हैं,भावनाएँ मर गयीं हैं,देख कर परिवेश ऐसा।हो गया क्यों देश ऐसा?? --पक्षियों का चह-चहाना ,लग रहा चीत्कार सा है।षट्पदों का गीत गाना ,आज हा-हा कार सा है।गीत उर में रो रहे हैं,शब्द सारे सो रहे हैं,देख कर परिवेश ऐसा।हो गया...
 पोस्ट लेवल : गीत आज हा-हा कार सा है
Prashant Kumar Prajapati
597
Prashant Kumar Prajapati
Prashant Kumar Prajapati
597
नमस्कार इस पोस्ट में हम आपको बताने वाले हैं,की महाराजा कॉलेज छतरपुर में पढ़ने वाले समस्त छात्र चाहे वो फर्स्ट ईयर के हों नमस्कार दोस्तों ,इस आर्टिकल में हम आपको बताने वाले हैं कि महाराजा कॉलेज छतरपुर में प्रवेशित 1 ईयर 2 ईयर व 3rd ईयर के छात्र छात्राओं को सेकंड फीस...
ज्योति  देहलीवाल
12
शहद हमारे शरीर के लिए बेहद फायदेमंद होता है। हम लोग कई बार फेरीवालों से भी शहद खरीद लेते है। कई बार वो मिलावटी होता है। फिलहाल तो कई ब्रांडेड कंपनियों के शहद में भी मिलावट पाई गई है। ऐसे में जरूरी है कि हमें पता हो कि घर पर आसानी से असली शुद्ध शहद की पहचान कैसे करे...
Kavita Rawat
189
जब मनुष्य सीखना बन्द कर देता हैतभी वह बूढ़ा होने लगता हैबुढ़ापा मनुष्य के चेहरे पर उतनी झुरियाँ नहीं  जितनी उसके मन पर डाल देता हैअनुभव से बुद्धिमत्ता और कष्ट से अनुभव प्राप्त होता हैबुद्धिमान दूसरों की लेकिन मूर्ख अपनी हानि से सीखता हैजिसे सहन करना कठिन था...
kuldeep thakur
2
सादर अभिवादन..आप अकेले बोल तो सकते है;परन्तुबातचीत नहीं कर सकते ।आप अकेले आनन्दित हो सकते हैपरन्तुउत्सव नहीं मना सकते।अकेले  आप मुस्करा तो सकते हैपरन्तुहर्षोल्लास नहीं मना सकते.पर....हम सब एक दूसरेके बिना कुछ नहीं हैंयही रिश्तों की खूबसूरती है llअब दौर रचनाओं...
 पोस्ट लेवल : 2013