ब्लॉगसेतु

Dinesh Dhakar
0
बिल गेट्स के जीवन प्रसंग Hindi Motivational Story दुनिया के शीर्ष धनवान व्यक्तियों में से एक बिल गेट्स से किसीने पूछा, “क्या इस दुनिया में आप से भी कोई अमीर है?” बिल गेट्स ने जवाब दिया, “हां! एक व्यक्ति को मैं जानता हूं, जो इस दुनि...
Asha News
0
अलीराजपुर। मध्यप्रदेश जन अभियान परिषद जिला अलीराजपुर में पंजीकृत वालेटियंर्स द्वारा अपने - अपने क्षेत्रों में कार्य किया जा रहा है। वालेटियंर के रूप में कई समाजसेवी भी आगे आ रहे है। विकासखण्ड जोबट से समाजसेवी दीपक चौहान द्वारा ‘‘में कोराना वालेटियंर में पंजीकृत करक...
 पोस्ट लेवल : जोबट अलीराजपुर Health
अजय  कुमार झा
0
 पिछले दो वर्षों ने इंसान को मिले सबक में से एक सबसे बड़ा सबक ये भी रहा कि इस दुनिया में जो कुछ भी जैसा भी है वो असल में , वास्तव में बेहद खूबसूरत और पवित्र है।  कहीं कोई दोष या खोट नहीं।  और जिस जिस में ज़रा सी भी जो भी परेशानी , कठनाई , अच्छे बुरे बद...
ऋता शेखर 'मधु'
0
धरती को रंगों से भर देंसबके माथे खुशियाँ जड़ देंघोलो अब रंगगुझियों की जो टाल लगाएँसबका मन मीठा करवाएँप्रीत भरा लेकर आलिंगनशिकवे कोसों दूर भगाएँझूम जाएँ सारे हुरियारपीसो अब भंगआम्रकुंज में बौर जो महकागूंज उठे कोयल के रागसमय न देखे उम्र न देखेकिलक उठे रंगीले फागदेखो ब...
ऋता शेखर 'मधु'
0
 122 122 122 122चले थे कहाँ से कहाँ जा रहे हैंशजर काट कैसी हवा पा रहे हैंन दिन है सुहाना न रातें सुहानीख़बर में कहर हर तरफ़ छा रहे हैंमुहब्बत की बातों को दे दो रवानीन जाने ग़दर गीत क्यों गा रहे हैंहै रंगीन दुनिया सभी को बतानाये सिर फाँसियों पर बहुत आ रहे हैंविरास...
ऋता शेखर 'मधु'
0
 समय कठिन हैक्या कुंठा या क्या गिलाजो मिलना था वही मिलामन को खुशियों से भर लोसमय कठिन हैकिसने किसको क्या- क्या बोलाशब्द शब्द किसने है तोलामन को अब तो पावन कर लोसमय कठिन हैजिन बन्धु की याद हो आतीउनको झट से लिख दो पातीया फिर डायल नम्बर कर दोसमय कठिन हैयदि बाकी ह...
 पोस्ट लेवल : कविता सभी रचनाएँ
इंदु सिंह
0
इंतज़ार समझते हैं ? जब कोई किसी के इंतज़ार में होता हैतो वह और कहीं नहीं होता है।*****इंतज़ार की दुनिया में फूलों से लदे कैक्टसपानी की सतह पर तैरते हैं।*****दूर खिला कोई कमल किसी के इंतज़ार में नहीं रहता लोग उसके इंतज़ार में रहते हैं।******जलकुंभी इंतज़ार में कैस...
 पोस्ट लेवल : कविता
इंदु सिंह
0
अपनी चिलम अपना नशा खुद बनाएँताकि नशे का अनुपात बराबर रहे।******नशे की भिन्न प्रजातियाँ हैंहर नशे के न आप आदी होते हैंन वो नशा आपका।*****नशे की अपनी प्रवृत्तियाँ भी होती हैं।*****कभी कोई तेज़ नशा भी आपको हिट नहीं करताकभी माइल्ड डोज़ भी ओवरडोज़ हो जाती है।*****नशे की त...
 पोस्ट लेवल : कविता