ब्लॉगसेतु

सुनीता शानू
380
दोस्तों कल एक कविता सुनाने का मौका मिला ...आपके सामने प्रस्तुत है...आज़ादी की होलीपहन वसन्ती चोला निकली मस्तानो की टोलीआजादी की खातिर खेली दिवानों ने होलीआज सजा है सर पे उनके बलिदानो का सेहराचाँद सितारों से मिलता है नादानों का चेहराआँख में आँसू आ जाते है देख के सूरत...
 पोस्ट लेवल : अमर शहीदो के नाम
Nalin  Vilochan
705
..............................
 पोस्ट लेवल : स्वास्थ्य हिन्दी
girish billore
356
आस का किसी ने जगाया था । उसने जीवन हर मोड़ पे नए नवेले मीठे-मीठे , खट्टे-खट्टे अनुभव की पोटली लेकर दिखाई दिया । वो सच्चा आदमी जब किसी का साथ देता तब डिफैन्सिव नहीं होता उसे अपना लक्ष्य स्पस्ट रूप से दिखाई दे रहा था। चलिए उस आदमी को नाम दे देतें हैं , उसका नाम आलू च...
Arshia Ali Ali
309
...THE FLYING MAN, Continued(Part-1, Part-2)Karan spent all the three years of his graduation in applying the principle of the aeroplane on himself. Because of this, his aggregate percentage in graduation dropped down. Looking at his marksheet, I said to hi...
 पोस्ट लेवल : science-fiction
सुनीता शानू
380
दोस्तों होली का त्यौहार आप सबके जीवन में खुशियाँ लाये यही मनोकामना है...भंग की तरंग ढोलक और मॄदंगहोली के रंगनाचे संग-संग .....फ़ागुन के दोहेडाल-डाल टेसू खिले,आया है मधुमास,मै हूँ बैठी राह में,पिया मिलन की आस।हो रे पिया मिलन की आसफ़ागुन आया झूम के ऋतु वसन्त के साथतन-म...
 पोस्ट लेवल : कविता
महेश कुमार वर्मा
322
पवित्र होली का पर्व आपस में वैर व दुश्मनी या शत्रुता की भावना भुलाकर आपस में प्रेम स्थापित करने का पर्व है। पर आज कितने लोग अपने पुराने दुश्मनी का बदला होली के दिन ही लेते हैं तथा कितने लोग होली के दिन शरारत करने से नहीं चुकते हैं। पर हमें ख्याल रखना चाहिए की पवित्...
 पोस्ट लेवल : होली शुभकामना
Nalin  Vilochan
705
..............................
 पोस्ट लेवल : भारत हिन्दी
संजीव तिवारी
269
दे दे बुलउवा राधे को : छत्‍तीसगढ में फाग संजीव तिवारी छत्तीसगढ में लोकगीतों की समृद्ध परंपरा लोक मानस के कंठ कठ में तरंगित है । यहां के लोकगीतों में फाग का विशेष महत्व है । भोजली, गौरा व जस गीत जैसे त्यौहारों पर गाये जाने लोक गीतों का अपना अपना महत्व है । समयानुस...
Nalin  Vilochan
705
..............................
 पोस्ट लेवल : भारत लेख हिन्दी
girish billore
356
होली तो ससुराल की बाक़ी सब बेनूर सरहज मिश्री की डली,साला पिंड खजूर साला पिंड-खजूर,ससुर जी ऐंचकताने साली के अंदाज़ फोन पे लगे लुभाने कहें मुकुल कवि होली पे जनकपुर जाओ जीवन में इक बार,स्वर्ग का तुम सुख पाओ..!! ######### होली तो ससुराल की बाक़ी सब बेनूर...