ब्लॉगसेतु

Vivek Rastogi
52
पल भर के लिये कोई हमें प्यार कर ले, झूठा ही सही, गाना क्या बंगले में फ़िल्माया गया है, इत्ते सारे खिड़की दरवाजे, कि हीरो देवानंद को सारे पता हैं और हीरोईन हेमामालिनी खिड़की दरवाजे बंद करके थक रही है। अच्छा गाना है प्यार में नाराज और गुस्सा और मनाना, जब हीरोईन मारने...
 पोस्ट लेवल : मेरी पसंद गाने अनुभव
Sanjay Chourasia
181
पाते तो " पुष्प " हैं रंग , खुशबु , पराग ,ईश्वर  के चरण ,सुन्दरता को बड़ाने की शोभा !" पात " का क्या वो तो देता है पेड़ को ऑक्सीजन, खोता है वक़्त के साथ रंग ,और अंत में आधार भी -पेड़ से होकर निराधार ,भटकता है ,धुल में मिल जाता है&...
 पोस्ट लेवल : फूल कर्म पात किरदार
Mayank Bhardwaj
55
आज मैं आपके लिए कुछ ऐसी साईट लेकर आया हु जिन पर जाकर आप यू ट्यूब के विडियो को MP3 फाइल में आसानी से डाउनलोड कर सकते हो वेसे तो बहुत सी साईट है जिन पर जाकर आप यूट्यूब के विडियो को MP3 के रूप में सेव कर सकते हो लेकिन आज मैं आपके लिए कुछ ऐसी साईट लेकर आया हु जो श...
ललित शर्मा
66
ललित शर्मा का नमस्कार, हद हो गई है, जब चाहो तब पैट्रोल के दाम बढा दो। फ़िर पैट्रोल की कीमते बढाने की कवायद जारी है। तेल कम्पनियाँ अल्टीमेटम दे रही हैं। सरकार पेश-ओ-पश में है। देखो ऊंट किस करवट बैठता है। सहयोगी दलों के विरोध पर कब तक तेल वृद्धि लंबित रहती है। वैसे भी...
ललित शर्मा
62
..............................
संगीता पुरी
222
मेष लग्नवालों के लिए 5 , 6 और 7 अप्रैल 2012 को भाई.बहन , बंधु बांधवों के मामलों में सुखद अहसास बनेगा। सहकर्मियों से सहयोग मिलेगा।  झंझट उपस्थित हो सकते हैं , पर प्रभाव की मजबूत स्थिति से उन्हें दूर किया जा सकेगा। संयोग के न बन पाने से कोई असफलता दिखाई पड सकती...
jaikrishnarai tushar
227
चित्र -गूगल से साभार एक गीतआदिम युग से चिड़िया गाना गाती हैमौसम की  आँखों से आँख मिलाती है |आदिम युग से चिड़िया गाना गाती है |आँधी -ओले ,बर्फ़ सभी कुछ सहती है ,पर अपनी मुश्किल कब हमसे कहती है ,बच्चों को राजा को सबको...
mukesh bhalse
499
जय घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंगमेरी पिछली पोस्ट में मैंने आपको अवगत कराया था औरंगाबाद तथा आसपास के दर्शनीय स्थलों से, और आइये अब मैं आपको लिए चलता हूँ औरंगाबाद के ही समीप स्थित घृष्णेश्वर ज्योतिर्लिंग मंदिर तथा एलोरा की प्रसिद्द गुफाओं के दर्शन कराने के लिए.जय...
 पोस्ट लेवल : Aurangabad Maharashtra
दीपक बाबा
287
कहते हो कि लिखो, कुछ तो लिखो, लो ये कलम और लिख दो दिल के जज्बात, लिखो कि दिल पुकार रहा है, लिखो कि शाम का मौसम खुशनुमा है और तुम नहीं समझ पा रहे हो कि टाइम्स रोमन टाइप लगाया जाए या फिर सेरिफ़... बोल्ड कर के ३६ पॉइंट लगा दिया जाए या फिर नोर्मल ही रुआंसा छोड़ दें, बे...
 पोस्ट लेवल : ब्लॉग्गिंग
हिमांशु पाण्डेय
134
प्रस्तुत हैं चार और कवित्त!  करुणामयी जगत जननी के चरणों में प्रणत निवेदन हैं शैलबाला शतक के यह चार प्रस्तुत कवित्त! शतक में शुरुआत के आठ कवित्त काली के रौद्र रूप का साक्षात दृश्य उपस्थित करते हैं।  पिछली तीन प्रविष्टियाँ सम्मुख हो चुकी हैं आपके। शैलबाला-श...