ब्लॉगसेतु

हर्षवर्धन त्रिपाठी
648
स्वर्गीय चंद्रशेखर में बलिया के बागियों की निष्ठा अब भी बनी हुई है। आजीवन बलिया से सांसद रहे चंद्रशेखर की मृत्यु के बाद बलिया की जनता ने उनके बेटे को सांसद बना दिया। अब उत्तर प्रदेश की एक लोकसभा सीट के उपचुनाव के नतीजे आए तो, राजनीतिक विश्लेषक और पार्टियों इस जीत क...
हर्षवर्धन त्रिपाठी
648
इलाहाबाद का कॉफी हाउस। शहर के सबसे पॉश इलाके सिविल लाइंस में रेलवे के नजदीक बसा ये कॉफी हाउस इलाहाबाद की खास संस्कृति का वाहक, पहचान रहा है। ये खास पहचान थी, इलाहाबाद की कला साहित्य, संस्कृति, आंदोलन और राजनीति में खास भूमिका की। वो, भूमिका जो, याद दिलाती है कला, स...
हर्षवर्धन त्रिपाठी
648
देश के इतिहास में ये पहली बार हुआ है कि किसी सांसद के खिलाफ पुलिस ने अपराधियों की तरह स्केच जारीकर उसे भगोड़ा घोषित कर दिया। माननीय (मुझे ये लिखते हुए शर्म आ रही है) सांसदों की सुरक्षा के लिए लगी रहने वाली पुलिस एक सांसद की तलाश में पिछले कई महीनों से घूम रही है। स...
सुनीता शानू
382
-दिल के कोरे कागज पर--खींचकर कुछ आड़ी-तिरछी लकीरें--जब देखती हूँ... -बन जाती है तस्वीर तुम्हारी--और लगता है कागज़ का वह टुकड़ा--कह रहा हो मुझसे--मै तो बसा हूँ दिल में तुम्हारे--क्यों कागज पर उतारा है? -देखो बेरहम दुनियाँ जला न दे--देखो कहीं हवा उड़ा न दे- -और घबरा कर म...
 पोस्ट लेवल : कविता
अनीता कुमार
409
अंदाज अपना अपनाकल हमने अपनी एक सहेली को फ़ोन किया, नये वर्ष की शुभ कामनाएं देनी थीं, फ़ोन पर आते ही सहेली बोली, "टेल मी", लगा किसी ने हथौड़ा ही मार दिया हो, अगर उसके कहे का अंग्रेजी अनुवाद करुं और उसके वाक्य को पूरा करुं तो कहेगें " टेल मी, वॉह्ट केन आई डू फ़ोर यू"। क...
 पोस्ट लेवल : लेख
Raam Mishra
465
Chapter 3: Verse 40-41 Subject: The Abode of Desire विषय: इच्छाओं का घर इन्द्रियाणि मनो बुद्धिरस्याधिष्ठानमुच्यते। एतैर्विमोहयत्येष ज्ञानमावृत्य देहिनम्॥३-४०॥   The senses, the mind and the intellect are said to be the places where it (the desire)...
 पोस्ट लेवल : Chapter 3 । अध्याय ३
अविनाश वाचस्पति
124
नए साल में ऐसा होआतंकवादी छोड़ें अपना धंधाबम फटे पर मरे नहीं एक बंदारिश्वत की फसल सूख जाएउगने की जमीन न मिल पाए
हर्षवर्धन त्रिपाठी
682
जैसी घटनाएं साल भर घटती रहती हैं उसी समय अगर वो सब उसी तरह से गूगल अंकल के सर्च इंजन में जुड़ जाए तो, कौन सा शब्द खोजने पर क्या मिल सकता है। ये मैंने 2007 जाते-जाते खोजने की कोशिश की है।हरामीपना सर्च मारोगे तो, जॉर्ज बुश की जगह मुशर्रफ का नाम आएगाहिंदुत्व की वकालत...
सुनीता शानू
382
हमने कहा जानेमन,हैप्पी न्यू ईयर...हँसकर बोले वो,सेम टू यू माई डियर॥पर पहले बस इतना बतलाओ,आज नया क्या है समझाओ...नये साल पर ही करती हो,मीठी-मीठी बातें...चलो रहने दो हमको चूना मत लगाओ॥कब मिली है हमको बिरयानीअपनी तो वही रोटी और दाल हैसब कुछ तो है वही पुराना,फ़िर भी कह...
 पोस्ट लेवल : हास्य-व्यंग्य
girish billore
691
Get this widget | Track details | eSnips Social DNA
 पोस्ट लेवल : Mohd. Rafi