ब्लॉगसेतु

Devendra Gehlod
46
मायूस तो हू वायदे से तेरे, कुछ आस नहीं कुछ आस भी हैमै अपने ख्यालो के सदके, तू पास नहीं और पास भी हैदिल ने ख़ुशी मांगी थी मगर, जो तुने दिया अच्छा ही दियाजिस ग़म को ताल्लुक हो तुझसे वह रास नहीं और रास भी हैपलकों पे लरजते अश्को में तस्वीर झलकती है तेरीदीदार की प्यासी...
 पोस्ट लेवल : sahir-ludhiyanvi
prakash govind
332
..............................
 पोस्ट लेवल : C.M.Audio Quiz Result
Ashok kumar
459
ह्दय रोग मे प्याज का रस काफी लाभकारी पाया गया है. सुबह के समय कच्चे सफेद प्याज का रस दो छोटे चम्मच पीने से हदय रोग के किसी भी अवस्था में लाभ मिलता है. डा० सत्यव्रत सिद्धान्तालंकार ने अपनी पुस्तक "रोग और उनकी होम्योपैथिक चिकित्सा" मे इसके बारे जिक्र करते हुए लिखा ह...
 पोस्ट लेवल : विविध
विजय राजबली माथुर
203
जैसा कि पहले ही बता चुके हैं कि सिग्नल कोर क़े K . P .Q .निर्माण हेतु हम लोगों से भी रूडकी रोड का क्वार्टर खाली करा लिया गया और हम लोग करन लाईन्स क़े मिलेटरी क्वार्टर सं-एम.टी./२ /३ में शिफ्ट हो गये थे.इसके सामने ही रेलवे फाटक और उस पार 'सरू स्मेल्टिंग प्रा.लि.' क...
अन्तर सोहिल
156
ब्लॉग……ब्लॉगर….।।टिप्पणी॥॥….।…अनामी…॥बेनामी…अच्छा…।बुरा॥….॥गुटबाजी……खेमा….॥ हिन्दू…॥मस्लिम….॥झगडा….…।शिकायत्….…नेता……।राजनेता……मठाधीश॥….।माफी॥….…।मिस्र……।काश्मीर्….…काम्….…कविता……।रचना……॥लेखन॥…॥…बोतल॥…॥शराब……।फोन॥….॥मोबाईल॥….।॥इन्टरनेट……॥घूमना॥…॥…॥सर्च॥…॥…॥…खोज…….।...
संजय भास्कर
110
वह मजदूर जिसमे उत्त्साह था अदमसह चूका था जो हर सितमरक्त नलिकाए भी दौड़ रही थी उसकीपूरी चुस्ती फुर्ती के साथजो इस खोखले समाज की राजनीति सेबहुत दूर |कंधे पर फावड़ा लिए चला जा रहा थाअनजान  डगर पर निश्चित बेपनाहचला जा रहा था इस समाज समुदाय कीगन्दी राजनीति सेबहुत द...
 पोस्ट लेवल : वह मजदूर
शिवम् मिश्रा
33
जीवन में कभी कभी कुछ दिन ऐसे आ जाते है जब आप यह तय नहीं कर पाते कि खुश हो या दुखी ... ऐसा ही एक दिन मेरे जीवन में आज से ठीक ५ साल पहले आया था | ७ फरवरी २००६ के दिन यूँ तो तय था कि मेरे विवाह का योग है ... और आखिर तक हुआ भी यही ... पर इस बीच कुछ ऐसा घटा जिस ने...
पत्रकार रमेश कुमार जैन उर्फ निर्भीक
477
दिल्ली पुलिस की वेबसाइट पर अपलोड हुई पहली ऍफ़.आई.आरआप सभी दोस्तों/ पाठकों,                               ...
विजय राजबली माथुर
73
(मेरठ कॉलेज पत्रिका में प्रकशित आलेख लघु रूप में )सप्त दिवा आगरा में दो किश्तों में प्रकाशित संकलन-विजय माथुर, फौर्मैटिंग-यशवन्त माथुर
yogendra pal3
556
..............................
 पोस्ट लेवल : तकनीकी मदद ब्लॉग मदद