ब्लॉगसेतु

girish billore
92
..............................
Manav Mehta
419
"तुम आये हो न, 'हिज्र' के दिन ढले हैं,'इस बार तो 'अश्कों' के ही, 'अलाव' जले हैं...''आओगे तुम कभी, इस 'राह' पर 'हमसे' 'मिलने,'आस में इसी 'मोड़' पर, कितने ही 'चिराग' जले हैं...''अजीब रंग में, अब के 'बहार' गुजरी है,'न मिले हो तुम हमसे, न 'गुलाब' खिले हैं...''किस-किस '...
Manoj Kumar
284
Born on 15th October 1931 at Rameswaram, in Tamil Nadu, Dr. Avul Pakir Jainulabdeen Abdul Kalam, specialized in Aero Engineering from Madras Institute of Technology.He initially worked in DRDO in 1958 and then joined ISRO in 1963. Dr. Kalam has made significant con...
 पोस्ट लेवल : महान वैज्ञानिक
राजेश त्रिपाठी
204
-राजेश त्रिपाठीलिखूं गजल इक तेरे नाम-राजेश त्रिपाठीतेरी हंसी को सुबह लिखूं,और उदासी लिखूं शाम ।आज बहुत मन करता है,लिखूं गजल इक तेरे नाम।। जुल्फें ज्यों सावन की घटा, चेहरे में पूनम सी छटा । नीलकंवल से तेरे नयन, मिसरी जैसे मीठे बचन।। गालिब की तुम्हें ल...
Mithilesh Dhar Dubey
387
रिश्ते बंद है आजचंद कागज के टुकड़ो में,जिसको सहेज रखा है मैंनेअपनी डायरी में,कभी-कभी खोलकरदेखता हूँ उनपर लिखे हर्फों कोजिस पर बिखरा हैप्यार का रंग,वे आज भी उतने ही ताजे हैजितना तुमसे बिछड़ने से पहले,लोग कहते हैं कि बदलता है सबकुछसमय के साथ,परये मेरे दोस्तजब भी देखत...
 पोस्ट लेवल : कविता
संजय भास्कर
223
कोई तुमसे पूछे कौन हूँ मैं , तुम कह देना कोई ख़ास नहीं । एक दोस्त है कच्चा पक्का सा , एक झूठ है आधा सच्चा सा । जज़्बात को ढके एक पर्दा बस , एक बहाना है अच्छा अच्छा सा । जीवन का एक ऐसा साथी है दूर हो के पास नहीं । कोई तुमसे पूछे कौन हूँ मैं , तुम कह देना कोई ख़ास...
sangeeta swarup
189
जिस तरह नन्हे पौधे को रोप कर हवा ,रोशनी के बिना यदि केवल सींचा जाये तो सड़ जाता है उसी तरह प्यार का पौधा भी रोशनी और बाहरी हवा के बिना मात्र नेह के जल से मर जाता है
सुनीता शानू
400
 आप सभी के आशीर्वाद से मेरे पति बिलकुल स्वस्थ हैं।जिंदगी के ऎसे दुखद समय में जब सब साथ छोड़ देते हैं आप सब की दुआयें मेरे साथ ढाल बन कर डटी रही ।आज वे बिलकुल स्वस्थ है और घर लौट आये हैं। आप सभी की दुआओ और माँ दुर्गा के आशीर्वाद का फ़ल ही है कि हम आप सभी के साथ द...
Roshan Jaswal
173
रुमाल आज हमारी एक खास ज़रूरत बन चुका है ! नाक हाथ या अपना पसीना साफ करने के लिए लोग इसका प्रयोग करते है ! यह बात बहुत कम लोग जानते है की रुमाल का प्रचालन कब और कहाँ हुआ ?  रुमाल बनाने का विचार सबसे पहले इंग्लेंड के रजा  रिचर्ड दो को सूझा उसने फ्रांस के रा...
 पोस्ट लेवल : इतिहास
ललित शर्मा
277
दुनिया  है  आनी  जानी  रे  बन्दे,  दुनिया  है आनी जानी बोल  ले  अब  तो  अपने  मुंह से प्यारे प्रभु की मीठी बानी दुनिया    है    आनी     जानी , दुनिया...