ब्लॉगसेतु

sangeeta swarup
198
फूल ने कली से मुस्कुरा कर कहा कितेरे पर भी बहार आएगी तू भी फूल बनते - बनते यूँ ही बिखर जायेगी पर कली ने उस बात कावह राज़ न जाना उसकी उस बात को ज़रा सच न माना पर आया वक्त तो वह फूल बन गई मस्ती से भरी कली यूँ...
rashmi prabha
94
जन्म लेते -काली रात,मूसलाधार बारिश...एक टोकरी मेंबेतरतीबी से कपड़े में लिपटेबालक कृष्ण,पिता वसुदेव संगयमुना को पार करके गोकुल पहुंचे....यमुना का बढ़ता जल,-कुछ भी हो सकता था,पर विधि ने साथ दियायमुना का जल शांत हुआ!कभी पूतना,कभी शेषनाग के हाथ पड़े,पर होनी ने उनको अद्भ...
girish billore
98
..............................
 पोस्ट लेवल : चित्र ब्लॉग गोपिकाएं
महेश कुमार वर्मा
353
आज हमारे पुरुष प्रधान समाज में स्त्री जाति को उपेक्षित भाव से देखा जाता है। लड़का-लड़की में अंतर व लड़की को उपेक्षित भाव से देखना उसी समय से प्रारंभ हो जाता है जब लड़की अपने माँ के कोख से जन्म लेती है। जब लड़का जन्म लेता है तो लोग खुशियाँ मनाते हैं और वहीँ जब लड़की जन्...
 पोस्ट लेवल : महिला विचार
अविनाश वाचस्पति
134
http://avinashvachaspati.blogspot.com/खरीदोगे गर विचारतो संपर्क करो मुझसेआज का भाग्‍यआरकुट पर बतलारहा है यही।
सिद्धार्थ शंकर त्रिपाठी
184
वैसे तो जबसे खबरिया चैनेलों ने समाचार दिखाने के बजाय विज्ञापन बटोरने की होड़ में घटिया तमाशा, भूत-प्रेत, जादू-टोना, ग्रह-नक्षत्र, और बेडरूम के झगड़े इत्यादि पर कंसेण्ट्रेट करना शुरू कर दिया है तबसे मैने टी.वी. पर समाचार देखना लगभग बन्द सा कर दिया है, लेकिन शनिवार की...
rashmi prabha
94
इक्कट -दुक्कट खेलने में घुटने दुखते हैं !हाँ भाई ,उम्र हुई,पर इतनी भी नहीं कि,रुमाल चोर नहीं खेल सकते !अरे टीम बन जाएतो क्रिकेट का बल्ला आज भी घुमा सकते हैं !पर एक पल के लिए भीबचपन को नहीं भूलेंगे.............बचपन का मैदान बहुत बड़ा होता है,एक चौकलेट की जीत...
मुन्ना के पाण्डेय
379
इन दिनों सारा समय खाली बेकार की बहसों में बीत जा रहा है और काम के नाम पर सब बकवास करते है...ये अल्फाज़ हैं हमारी यूनिवर्सिटी से ही पास-आउट एक पुराने स्टुडेंट का। ये सीनियर स्टुडेंट काफ़ी समय बाद इधर को आए हैं .....२००२ से अब के हालात एक दम ही बदल गए हैं। यूनिवर्सिट...
girish billore
98
..............................
महेश कुमार वर्मा
353
श्री कृष्ण जन्माष्टमी के अवसर पर सबों को ढ़ेर सारी शुभकामनाएँ ************************************************** गीता में भगवान श्री कृष्ण ने हमें हमेशा अपने कर्म करते रहने की ही शिक्षा दिए हैं। अतः श्री कृष्ण जन्माष्टमी के पर्व को हमें यों ही नहीं बिताना चाहिए बल्क...