ब्लॉगसेतु

अमिय प्रसून मल्लिक
0
मैं जब- जब तनहाइयों में आहें भरता रहा,तुम रंगीनियों की दुनिया में मगन रही ।कैसे किया तुमने कभी मुझसे मुहब्बत का दावा,कैसे सदियों से मुझे तुम झुठलाती रही हो !मेरे लिए तेरी मुहब्बत का हसीन-सा तोहफ़ा है,मैं आँसू पीता रहा और तुम इठलाती रही हो ।मैं समझ नहीं पाता मेरे लिए...
Arvind Mishra
0
राम सेतु का यथार्थ राम सेतु के मामले ने अब एक जनांदोलन का रूप ले लिया है और यह तो होना ही था .जब भी आम रूचि के मामलों पर जनता जनार्दन को विश्वास मे नही लिया जायेगा जनता ऐसे ही उठ खडी होगी .जनता को हर ऎसी योजनाओं के बारे मे बखूबी जानने का हक है जिसमे उसकी टेंट से...
 पोस्ट लेवल : Ram Setu(Hindi)
Arvind Mishra
0
क्या 'न्यूस्पीक' से आप परिचित हैं?पिछले दिनों मैंने आपका परिचय जार्ज आर्वेल और उनकी साहित्यिकविरासत से कराया था .आर्वेलियन साहित्य का एक और पहलू काफी रोचक हैजो भाषा के एक नए रुप को दर्शाता है .आईये देखते हैं. ,अभिव्यक्ति पर भी पहरा ! आर्व...
 पोस्ट लेवल : George Orwell (Hindi) New Speak(Hindi)
सुनीता शानू
0
मेरी यह कविता मेरे गुरूदेव के चिट्ठे का काव्यरूपांतरण है...बस यूं ही हँस दिजिये चलते-चलते...कनाडा में रहने वाले हिन्दुस्तानियों ने,हिन्दी-दिवस कुछ एसे मनाया...माँ शारदा की मूरत के आगे,दीप भारतीय एक जलाया...भारत से आये एक अधिकारी को,मुख्य अतिथी बनाया,हिन्दी हमारी पह...
 पोस्ट लेवल : हास्य-व्यंग्य
संजीव तिवारी
0
भाद्रपद (भादो) का महीना छत्‍तीसगढ के लिए त्‍यौहारों का महीना होता है, इस महीने में धान का कटोरा कहे जाने वाले छत्‍तीसगढ में किसान धान के प्रारंभिक कृषि कार्य से किंचित मुक्‍त हो जाते हैं । हरेली से प्रारंभ छत्‍तीसगढ का बरसात के महीनों का त्‍यौहार, खमरछठ से अपने असल...
Arvind Mishra
0
जार्ज ओर्वेल की मशहूर कृति ,१९८४ शायद आप मे से किसी ने जरूर पढी होगी . अगर ना भी पढी हो तो कोई बातनही आज मैं आपको इस महान ब्रितानी उपन्यासकार के जीवन और कृतित्व के बारे मे बताने जा रहा हूँ जिसनेसाहित्य के वैश्विक पटल पर कभी तहलका मचा दिया था , खासतौर पर विज्ञान कथा...
 पोस्ट लेवल : George Orwell (Hindi)
Arvind Mishra
0
ना बाबा ना बाबा पिछवाडे बुड्ढा खांसता ! अब कथित बुड्ढा खांस ही नही रहा बल्कि वह आपके निजी जीवन मे तांक झांक पर भी उतारू हो गया है । आशय यह कि आर्वेलियन संसार अब वजूद मे आ रहा है , जिसकी कल्पना १९३९ मे ही इस महान उपन्यासकार ने कर ली थी . उस कालजयी कृति का नाम...
 पोस्ट लेवल : George Orwell (Hindi)
सुनीता शानू
0
सच ही कहा है गुरू बिन ज्ञान नहीं,गुरू नहीं जब जीवन में मिलते भगवान नहींआज शिक्षक दिवस पर उन सभी गुरूओं को मेरा नमन जिन्होने निःस्वार्थ भाव से नन्हें, सुकोमल कच्ची मिट्टी से बने बच्चों का मार्ग दर्शन किया और उन्हें सही मार्ग दिखलाया...मगर मेरी यह कविता उन शिक्षकों क...
 पोस्ट लेवल : हास्य-व्यंग्य
Arvind Mishra
0
इन दिनो चीन के कई शहरों मे नागरिकों पर हर वक़्त नज़र रखने के लिए एक अमेरीकी कंपनी ने कंप्यूटर प्रोग्रॅम्स,साफ्टवेयर मुहैया कराएँ हैं.मुझे जार्ज आरवेल के मशहूर नॉवेल ,1984 की याद आ गयी जिसमे एक ऐसी व्यवस्था का जिक्र है और एक प्रसिद्ध जुमला भी उन्ही क़ी दें है-बिग ब...
 पोस्ट लेवल : George Orwell (Hindi)
सुनीता शानू
0
आज जन्माष्टमी के अवसर पर आप सभी को हार्दिक शुभ-कामनाएं...आज मै ना आऊँ और ना लिखुं कुछ कैसे हो सकता है...बहुत व्यस्त हूँ मगर श्याम सखा के लिये हर्गिज नही...एक छोटा सा गीत लिखा है कभी मीरा बनके तो कभी राधा बन के हर रूप में साँवरे को चाहा है सभी ने... वो मुरली मनोहर न...
 पोस्ट लेवल : हे श्याम सखा