ब्लॉगसेतु

Arvind Mishra
0
किसे कहेंगे हम सोम -कस्मै सोमाय हविषा विधेम!कहीं यही तो सोम नही है?अब आगे ...सोम की सबसे प्रबल दावेदारी Robert Gordon Wasson द्वारा एक मशरूम के लिए की गयी जिन्होंने अमैनिटा मस्कैरिया[सबसे नीचे का चित्र ] को इसका सबसे उपयुक्त प्रत्याशी माना [ .इसके बारे मे उन्होने...
 पोस्ट लेवल : Soma-the enigma(Hindi)
सुनीता शानू
0
सभी ब्लॉगर भाईयों,बहनो,दोस्तों.... से अनुरोध है अपना ई-मेल पता व फोन नम्बर शीघ्र दे दें.. जो लोग काव्य गोष्ठी में आ रहे है उनके नाम कल आ गये थे...और भी आना चाहते है तो आपका स्वागत है...http://shanoospoem.blogspot.com/2007/11/blog-post_06.htmlसुनीता(शानू)
 पोस्ट लेवल : गौष्ठी-आयोजन
हर्षवर्धन त्रिपाठी
0
राहुल गांधी के आगे भले ही देश के कई राज्यों के मुख्यमंत्री सिर नवाए खड़े रहते हों लेकिन, राहुल अपने संसदीय क्षेत्र एक सुपरिंटेंडिंग इंजीनियर के आगे बेबस नजर आ रहे हैं। वो, भी एक ऐसा इंजीनियर जिसके खिलाफ खराब तरीके से काम करने के ढेर सारे आरोप हैं। लेकिन, इस सबके बा...
 पोस्ट लेवल : मायाराज
अनीता कुमार
0
दिवाली के उपलक्ष्य में दिवाली की शुभ कामनाओं के साथ अपनी एक पुरानी रचना फ़िर से प्रस्तुत कर रहे हैं, जिसमें एक राजस्थानी परंपरा को नमन किया गया है। ये कविता लिखी गयी थी जब मैं ने मकान बदला थादिवाली की रातकहने को चार दिवारें अपनी थींकाले चूने से पुती हुईंपहली दिवाली...
 पोस्ट लेवल : कविता
सुनीता शानू
0
आदरणीय हो सकता है कि फ़िर कोई गलती हो गई हो...माफ़ी चाहती हूँ...मै जिनके नाम लिख रही हूँ उन्होने अपनी उपस्थिती दर्ज करवा दी है...मगर जो संकोच वश नही करवा रहे है वो भी आमंत्रित है...अगर कोई गलती से अभी भी लिस्ट में रह गये हो बुरा न माने आप सभी सादर आमंत्रित है...कवि +...
 पोस्ट लेवल : गौष्ठी-आयोजन
Arvind Mishra
0
कुछ चिट्ठाकार प्रेमियों ने वैदिक सोम वनस्पति के बारे मे जिज्ञासा दिखाई है .अध्ययनों से पता चलता है कि वैदिक काल के बाद यानी ईशा के पहले ही इस बूटी /वनस्पति की पहचान मुश्किल होती गयी .ऐसा भी कहाजाता है कि सोम[होम] अ...
 पोस्ट लेवल : Soma-the enigma(Hindi)
अनीता कुमार
0
बातेंबचपन में(तीसरी/चौथी क्लास में रहे होगें) हमने एक दिन अपनी मां से शिकायत की कि क्लास में कोई हमसे बात नहीं करता, मां ने पहले तो अनसुना कर दिया पर जब हमने दो तीन बार कहा तो एक दिन मां पता लगाने हमारे स्कूल चली आयीं। टीचर को क्लास के बाहर बुला कर पूछा कि भई बात...
 पोस्ट लेवल : लेख
कुमार मुकुल
0
दांद दर्द में या तो दांतों की जड़ अंदर से सड़ जाती है या वह गलने लगती है और अक्‍लदाढ़ में खोडरे या गड्ढे बनने लगते हैं। इनमें जब फंस कर अन्‍न के टुकड़े सड़ने लगते हैं तो कई तरह की परेशानियां पैदा होती हैं। एलोपैथ अक्‍सर खोडरे को सोना चांदी या पत्‍थर के पेस्‍ट से...
अनीता कुमार
0
फ़िरंगी के पन्नों सेअपने वादे के अनुसार मैं यहां फ़िंरगी उपन्यास का एक पन्ना प्रस्तुत करने जा रही हूँ,आशा है आप को पंसद आयेगा।सगुन अनुकूल होने पर दूसरों का भविष्य केवल मौत था, दल में चाहे कितने ही लोग हों, या वक्त कितना ही लगे। अगर दिखाई पड़े कि राह्गीर संख्या में ज्...
 पोस्ट लेवल : लेख
Arvind Mishra
0
ऋग्वेद मे अकेले इस एक वनस्पति को देवता का दर्जा दे दिया गया है जहाँ इसकी प्रशंसा मे अनेक छंद कहे गए हैं.इसकी स्तुति मे बताया गया है कि कैसे इसके उपभोग से देवताओं के राजा इन्द्र मे इतनी ताकत आ जाती है किवे असुरों की बड़ी सेना को परास्त कर देते हैं .सब देवता सोमरस क...
 पोस्ट लेवल : Soma-the enigma(Hindi)