ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
हाइकु *माँ सरस्वती! अमल-विमल मति दे वरदान। *हंसवाहिनी!कर भव से पार वीणावादिनी। *श्वेत वसना !मन मराल कर कालिमा हर। *ध्वनि विधात्री!स्वर-सरगम दे गम हर ले। *हे मनोरमा!रह सदय सदा अभयप्रदा। *मैया! अंकित छवि मन पर हो दैवी वंदित।*शब्द-साधना सत-शिव-सुंदर पा अर्चित हो। *...
 पोस्ट लेवल : हाइकु सरस्वती
Kajal Kumar
18
 पोस्ट लेवल : Police पुलिस jnu
BAL SAJAG
38
" जिंदगी को अपने शरण देती हैं "मैं  उस आसमाँ के बारे सोचता हूँ, जो इतने सरे जिंदगी को अपने शरण देती हैं | मैं उस बात को सोचता हूँ,जो कुछ अजीब सा जिंदगी देते हैं | कभी - कभी मैं कुछ और सोचता हूँ,जो हंसी  और उल्लास से भर देती है | एक मनु...
kuldeep thakur
2
सादर अभिवादन..आज के ब्लॉग का नाम हैदिल की कलम से...आइए पढ़ें इस ब्लॉग की रचनाएँअब न लिख सकूँगी...प्रेम मे डूबे हुए मैं गीत अब न लिख सकूँगी...मैं मिलन की चाशनी में शब्द लिपटे न चखूँगी...हो भले चिर यौवना सौंदर्य की प्रतिमा भले हो...मैं समेटे कोख मे श्रृंगारिता अब न र...
 पोस्ट लेवल : 1586
Prashant Kumar Prajapati
480
 Agar aap Janna Chahte Hain Godaddy kya hai Godaddy Se Kaise website domain name khariden to aapko Yahan per Sabhi Tarah ki jankari Di Jayegi to aap padhte Rahen aage ToGodaddy kya haiTu Godaddy se ham apni website Yaadon Mein name khareed sakte hain Jisko kha...
Yashoda Agrawal
3
अलि गुञ्जन सम मधुहास लिएतटिनी कलरव परिहास प्रिये!विधु रश्मियुता शरदीय सखे!हर लो विरहज संताप प्रिये!प्राण प्रिये प्रणतात्मन् मैंप्रणतपाणि प्रणिपात करूँ प्रणय प्रेम परिपूर्ण करो पावस बन निर्झर सी झरो ||परिपूर्ण भरो प्रणयी घट को प्रणय पाश आलिगंन दोस्नेह...
4
--सबसे सुन्दर जगत में, होता फूल कपास।जीवन में इस सुमन से, छा जाता उल्लास।।--कभी चढ़ाई है यहाँ, होता कभी ढलान।नहीं समझना सरल कुछ, जीवन का विज्ञान।।--सच्ची होती मापनी, झूठे सब अनुमान।ताकत पर अपनी कभी, मत करना अभिमान।।--कंचन काया को कभी, माया से मत तोल।दौलत के अभिमान...
 पोस्ट लेवल : दोहे रहना भाव-विभोर
Roli Dixit
163
ओ पुरुष,तुम्हें भी भीतर घुटता होगा कहींजब तुम अपने होठों पर रख लेते होमौन सलाखें;तुम्हें भी तो प्यारी होगी स्त्री उतनी हीजितना प्रेम तुम उससे पाते होऔर जब वही स्त्री तुम्हें समझती नहीं होगीतो मुरझा जाते होगे तुम भी दर्द सेजैसे दूब मुरझा जाती है चटख धूप से,तुम्हारा...
 पोस्ट लेवल : International mens day
अनीता सैनी
1
स्नेहिल अभिवादन। काव्य-भाषा को सहज सरल सरस समृद्ध रोचक और अभिव्यक्ति सम्पन्न बनाने में अतीत के साहित्य मनीषियों ने अपना यथायोग्य योगदान समर्पित किया है। वर्तमान दौर में हिंदी काव्य-भाषा अन्य भाषाओं की अपेक्षा संस्कृमित-सी नज़र आती है।&n...
 पोस्ट लेवल : -अनीता सैनी
ANITA LAGURI (ANU)
26
      चित्र गूगल से साभारएक स्त्री समेटती हैं।अपने आँचल की गाँठ में, परिवार की सुख शांति और समझौतों से भरी हुई अंतहीन तालिका,खुद के उसके दुखों का हिसाबउसकी मुस्कुराहटों की पर्चियां,वो अक्सर ही गायब रहती है। उसके तैयार किए गएविवरण...