ब्लॉगसेतु

ऋता शेखर 'मधु'
112
सबकी अपनी राम कहानी=================जितने जन उतनी ही बानीसबकी अपनी राम कहानीऊपर ऊपर हँसी खिली हैअंदर में मायूस गली हैकिसको बोले कैसे बोले अँखियों में अपनापन तोलेपाकर के बोली प्रेम भरीआँखों में भर जाता पानीमन का मौसम बड़ा निरालापतझर में रहता मतवालादिखे चाँदनी कड़ी धूप...
 पोस्ट लेवल : कविता गीत सभी रचनाएँ
Asha News
111
एक व्यक्ति एक साल में 11 लाख 68 हजार लीटर एवं झाबुआवासी एक वर्ष में 58 अरब, 40 करोड़ लीटर पानी करते है खर्च -ः पद्मश्री शिवगंगा प्रमुख महेश शर्माझाबुआ। झाबुआवासियां को यह जानकर आष्चर्य होगा कि शहर का प्रति व्यक्ति एक साल में 11 लाख 68 हजार लीटर पानी की इस्तेमाल...
Asha News
111
झाबुआ। भगवान भोलेनाथ के पावन तीर्थ स्थल देवझिरी में वैकुण्डठवासी पण्डित हरिप्रसाद अग्निहोत्री द्वारा स्थापित परम्परा को सतत रखते हुए उनके परिजनों के सहयोग द्वारा श्रावण के पवित्र माह में प्रतिवर्षानुसार इस वर्ष प्रथम श्रावण सोमवार दिनांक 22 जुलाई को भगवान संकट...
शिवम् मिश्रा
1
प्रीति अज्ञात, अज्ञात की खोज में एक ज्ञात नाम।  भावों-शब्दों के साथ एक ऐसा रिश्ता है, जिसके साथ अज्ञात भी एक जुड़ाव महसूस करता है।  आज उनकी कलम की बारी,यूँ होता....तो क्या होता !: बाबा की बेंत बाबा की चमचमाती, सुन्दर, गोल घुण्डीनुमा बेंत जाने कितने ही...
sanjiv verma salil
5
महिला क्रिकेट*जा विदेश में बोलिए,हिन्दी तब हो गर्व. क्या बोला सुन समझ लें,भारतीय हम सर्व.*चौको से यारी करो,छक्को से हो प्यार. शतक साथ डेटिग करो, मीताली सौ बार.*खेलो हर स्ट्रोक तुम, पीटो हँस हर गेंद.गेंदबाज भयभीत हो, लगा न पाए सेंध.*दस हजार...
 पोस्ट लेवल : cricket mahila क्रिकेट महिला
sanjiv verma salil
5
दोहा - सोरठा गीतपानी की प्राचीर*आओ! मिलकर बचाएँ,पानी की प्राचीर।पीर, बाढ़ - सूखा जनित हर, कर दे बे-पीर।। *रखें बावड़ी साफ़,गहरा कर हर कूप को। उन्हें न करिये माफ़,जो जल-स्रोत मिटा रहे।।चेतें, प्रकृति का कहीं,कहर न हो, चुक धीर।आओ! मिलकर बचाएँ,पानी की प्राच...
sanjiv verma salil
5
मुक्तिका *कल दिया था, आज लेता मैं सहारा चल रहा हूँ, नहीं अब तक तनिक हारा सांस जब तक, आस तब तक रहे बाकी जाऊँगा हँस, ईश ने जब भी पुकारा देह निर्बल पर सबल मन, हौसला है चल पड़ा हूँ, लक्ष्य भूलूँ? ना गवारा पाँव हैं कमजोर तो बल हाथ का ले...
 पोस्ट लेवल : मुक्तिका muktika
sanjiv verma salil
5
द्विपदी / दोहे*गौर गुरु! मीत की बातों पे करो दिल किसी का दुखाना ठीक नहीं*श्री वास्तव में हो वहीं, जहां रहे श्रम साथजीवन में ऊन्चा रखे श्रम ही हरदम माथ*खरे खरा व्यव्हार कर, लेते हैं मन जीतजो इन्सान न हो खरे, उनसे करें न प्रीत.*गौर करें मन में नहीं, 'सलिल' तनिक...
 पोस्ट लेवल : dwipadi/dohe द्विपदी / दोहे
sanjiv verma salil
5
सोरठा - दोहा गीतसंबंधों की नाव*संबंधों की नाव,पानी - पानी हो रही। अनचाहा अलगाव,नदी-नाव-पतवार में।।*स्नेह-सरोवर सूखते,बाकी गन्दी कीच।राजहंस परित्यक्त हैं,पूजते कौए नीच।।नहीं झील का चाव,सिसक रहे पोखर दुखी।संबंधों की नाव,पानी - पानी हो रही।।*कुएँ - बावली में नहीं...
Tricks King
12
(adsbygoogle = window.adsbygoogle || []).push({}); बैंकिंग क्षेत्र में नौकरियों की भरमार (Banking Me Rojgar Ke Avasar info in Hindi) बैंकिंग क्षेत्र में रोजगार के अवसर, बैंकिंग में जॉब के लिए योग्यता. आगे पढ़े पूरी जानकारी. . (adsbygoogle = w...