ब्लॉगसेतु

sanjiv verma salil
6
लघुकथामोहनभोग*'क्षमा करना प्रभु! आज भोग नहीं लगा सका.' साथ में बाँके बिहारी के दर्शन कर रहे सज्जन ने प्रणाम करते हुए कहा.'अरे! आपने तो मेरे साथ ही मिष्ठान्न भण्डार से नैवेद्य हेतु पेड़े लिए था, कहाँ गए?' मैंने उन्हें प्रसाद देते हुए पूछा.पेड़े लेकर मंदिर आ रहा था कि...
 पोस्ट लेवल : मोहनभोग लघुकथा
sanjiv verma salil
6
दोहा सलिला:मेघ की बात*उमड़-घुमड़ अा-जा रहे, मेघ न कर बरसात।हाथ जोड़ सब माँगते, पानी की सौगात।।*मेघ पूछते गगन से, कहाँ नदी-तालाब।वन-पर्वत दिखते नहीं, बरसूँ कहाँ जनाब।।*भूमि भवन से पट गई, नाले रहे न शेष।करूँ कहाँ बरसात मैं, कब्जे हुए अशेष।।*लगा दिए टाइल अगिन, भू है त...
 पोस्ट लेवल : दोहा सलिला मेघ बरसात
sanjiv verma salil
6
नवगीत :समारोह है*समारोह हैसभागार में।*ख़ास-ख़ास आसंदी पर हैं,खासुलखास मंच पर बैठे।आयोजक-संचालक गर्वित-ज्यों कौओं में बगुले ऐंठे।करतल ध्वनि,चित्रों-खबरों मेंरूचि सबकी हैनिज प्रचार में।*कुशल-निपुण अभियंता आए,छाती ताने, शीश उठाए।गुणवत्ता बिन कार्य हो रहे,इन्हें न मतलब,...
 पोस्ट लेवल : नवगीत समारोह है
Manisha Sharma
313
भारतीय संविधान का निर्माण कैसे हुआ?भारत देश में सबसे ऊंचा पद भारतीय संविधान का है। सरकार, सुप्रीम कोर्ट, राष्ट्रपति, प्नधानमंत्री कोई भी इससे ऊपर नही है। सब इसके दायरे में रहकर काम करना होता है।भारत के वर्तमान संविधान को बनाने के लिये आजादी के पहले से ही प्रया...
 पोस्ट लेवल : भारतीय भारत संविधान
sanjiv verma salil
6
लघुकथाअकेले*'बिचारी को अकेले ही सारी जिंदगी गुजारनी पड़ी।''हाँ री! बेचारी का दुर्भाग्य कि उसके पति ने भी साथ नहीं दिया।''ईश्वर ऐसा पति किसी को न दे।'दिवंगता के अन्तिम दर्शन कर उनके सहयोगी अपनी भावनाएँ व्यक्त कर रहे थे।'क्यों क्या आप उनके साथ नहीं थीं? हर दिन आप सब स...
 पोस्ट लेवल : अकेले लघुकथा
sanjiv verma salil
6
नवगीत धरती की छाती पै होरारओ रे सूरज भून।*दरक रे मैदान-खेत सबमुरझा रए खलिहान।माँगे सीतल पेय भिखारीले न रुपया दान।संझा ने अधरों पे बहिनालगा रखो है खून।धरती की छाती पै होरारओ रे सूरज भून।*धोंय, निचोरें सूखें कपरापहने गीले होंय।चलत-चलत कूलर हीटर भओपंखें चल-थक रों...
 पोस्ट लेवल : नवगीत
sanjiv verma salil
6
दोहा सलिला*पाठक मैं आनंद का, गले मिले आनंदबाहों में आनंद हो, श्वास-श्वास मकरंद*आनंदित आनंद हो, बाँटे नित आनंदहाथ पसारे है 'सलिल', सुख दो आनंदकंद!*जब गुड्डो दादी बने, अनुशासन भरपूरजब दादी गुड्डो बने, हो मस्ती में चूर*जिया लगा जीवन जिया, रजिया है हर श्वासभजिया-कोफी न...
 पोस्ट लेवल : आनंद दोहा
संगीता पुरी
113
क्या हमारे गाँव कोरोना से सुरक्षित हैं ?कोरोना पर लिखें गए कल के लेख पर एक पाठक के कमेंट से आज के लेख की शुरुआत करती हूँ, जिन्होंने लिखा कि शहरों में भयावहता फैलाने वाले कोरोना का गाँव में कोई प्रभाव नहीं है ! गावों में कुछ केसेज आये भी तो ख़त्म हो गए, प्रसार न...
 पोस्ट लेवल : Our villages and corona
sanjiv verma salil
6
षट्पदिक कृष्ण-कथादेवकी-वसुदेव सुत कारा-प्रगट, गोकुल गयानंद-जसुदा लाल, माखन चोर, गिरिधर बन गयारास-लीला, वेणु-वादन, कंस-वध, जा द्वारिकारुक्मिणी हर, द्रौपदी का बन्धु-रक्षक बन गयाबिन लड़े, रण जीतने हित ज्ञान गीता का दियाव्याध-शर का वार सह, प्रस्थान धरती से किया११-७-२०१६...
sanjiv verma salil
6
स्मृति आलेख -डॉ. बुद्धिनाथ मिश्रहिन्दी नवगीत परंपरा के शीर्ष प्रवर्तक होने के कारण आधुनिक भरत मुनि की प्रतिष्ठा पानेवाले प्रगतिशील कवि डॉ. शम्भुनाथ सिंह का यह शताब्दी वर्ष है | उनके साहित्यिक महत्त्व को सम्मान देते हुए केन्द्रीय साहित्य अकादमी ने 8 जुलाई को उनकी कर...