ब्लॉगसेतु

Devendra Gehlod
0
..............................
 पोस्ट लेवल : pratap-somvanshi ghazal
sanjiv verma salil
0
 मुक्तिका सुभद्रा *वीरों का कैसा हो बसंत तुमने हमको बतलाया था। बुंदेली मर्दानी का यश दस दिश में गुंजाया था।। 'बिखरे मोती', 'सीधे सादे चित्र', 'मुकुल' हैं कालजयी। 'उन्मादिनी', 'त्रिधारा' से सम्मान अपरिमित पाया था।। रामनाथ सिंह सुता, लक्ष्मण सिंह भार्या तेजस्व...
 पोस्ट लेवल : मुक्तिका सुभद्रा
sanjiv verma salil
0
सॉनेटशारद वंदना•शारदे! दे सुमति कर्म कर।हम जलें जन्म भर दीप बन।जी सकें जिंदगी धर्म कर।।हो सुखी लोक, कर कुछ जतन।।हार ले माँ! सुमन अरु सुमन।हार दे माँ! क्षणिक, जय सदा।हो सकल सृष्टि हमको स्वजन।।बेहतर कर सकें जो बदा।।तार दे जो न टूटें कभी।श्वास वीणा बजे अनहदी।प्यार दे,...
Mayank Bhardwaj
0
Welcome to My Latest Top 5 Free Photoshop Brushes Download Website Article. आज के मेरा ये आर्टिकल उन सभी लोगो के लिए है जो Photoshop का काम करते है. आज में आपको Photoshop Brushes Download करने की वो Free वेबसाइट के लिंक देने वाला हु. जिसका इस्तेमाल करके आ...
sanjiv verma salil
0
सॉनेट वसुधा•वसुधा धीरजवान गगन सी।सखी पीर को गले लगाती।चुप सह लेती, फिर मुसकाती।।रही गुनगुना आप मगन सी।।करें कनुप्रिया का हरि वंदन।साथ रहें गोवर्धन पूजें।दूर रहें सुधियों में डूबें।।विरह व्यथा हो शीतल चंदन।सुख मेहमां, दुख रहवासी हम।विपिन विहारी, वनवासी हम।भोग-योगकर...
 पोस्ट लेवल : शारदा सानेट
jaikrishnarai tushar
0
 चित्र साभार गूगलएक लोकभाषा गीत-प्रेम क रंग निराला हउवैसिर्फ़ एक दिन प्रेम दिवस हौबाकी मुँह पर ताला हउवैई बाजारू प्रेम दिवस हौप्रेम क रंग निराला हउवैसबसे बड़का प्रेम देश कीसीमा पर कुर्बानी हउवैप्रेम क सबसे बड़ा समुंदरवृन्दावन कै पानी हउवैप्रेम भक्ति कै चरम बिंदु...
sanjiv verma salil
0
सॉनेटसदा सुहागिन•खिलती-हँसती सदा सुहागिन।प्रिय-बाहों में रहे चहकती।वर्षा-गर्मी हँसकर सहती।।करे मकां-घर सदा सुहागिन।।गमला; क्यारी या वन-उपवन।जड़ें जमा ले, नहीं भटकती।बाधाओं से नहीं अटकती।।कहीं न होती किंचित उन्मन।।दूर व्याधियाँ अगिन भगाती।अपनों को संबल दे-पाती।जीवट क...
sanjiv verma salil
0
सॉनेटदयानन्द•शारद माँ के तप: पूत हे!करी दया आनंद  लुटाया।वेद-ज्ञान-पर्याय दूत हे!मिटा असत्य, सत्य बतलाया।।अंध-भक्ति का खंडन-मंडन। पार्थिव-पूजन को ठुकराया। सत्य-शक्ति का ले अवलंबन।। आडंबर को धूल मिलाया।। राजशक्ति से निर्भय जूझे। लोकशक्त...
jaikrishnarai tushar
0
 श्री पवन कुमार(I.A.S)निदेशक उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान,लखनऊविशेष  -पवन कुमार जी अपनी ग़ज़लों के लिए जाने जाते हैं लेकिन अभी हाल में एक उपन्यास 'मैं हनुमान 'प्रकाशित हुआ और काफी सराहा जा है | यह उपन्यास रामभक्त अजर अमर भक्त शिरोमणि हनुमान जी पर लिखा गया है...
अनंत विजय
0
गीतकार मजरुह सुल्तानपुरी को उनकी एक कविता के लिए जेल भेज दिया गया था। तब देश में कांग्रेस का शासन था और नेहरू जी प्रधानमंत्री थे। संविधान और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को लेकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने राज्यसभा में राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव के दौर...